राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल विधानसभा चुनाव में जीत के बाद मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी दूसरे राज्यों में पार्टी के विस्तार पर जोर दे रही हैं। इसी प्रक्रिया के तहत ममता के सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी को पार्टी का राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है। अब भाजपा से तृणमूल में लौटे मुकुल रॉय को पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की अहम जिम्मेदारी देने की बात हो रही है। उन्हें दूसरे राज्यों का भी दायित्व दिया जाएगा। तृणमूल में वापसी अगले ही दिन मुकुल रॉय ने अभिषेक बनर्जी के साथ उनके दफ्तर में बैठक की थी। उम्मीद की जा रही थी कि मुकुल रॉय को पार्टी में अहम जिम्मेदारी दी जाएगी और राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए तृणमूल जिस तरह की रणनीति बना रही है, उसमें मुकुल की बड़ी जिम्मेदारी होगी। हालांकि भाजपा में भी मुकुल रॉय को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष की ही जिम्मेदारी दी गई थी।

अब तृणमूल में भी उन्हें उपाध्यक्ष का पद ही दिए जाने की चर्चा है। मुकुल रॉय लंबे समय तक केंद्र की राजनीति में भी शामिल रहे हैं। इससे पहले भी वह तृणमूल कांग्रेस में रहते हुए दूसरे राज्यों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। मुकुल, अभिषेक और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की तिकड़ी तृणमूल की विस्तार योजना को आगे बढ़ाएगी। प्रशांत किशोर की रणनीति और मुकुल के अनुभव का इस्तेमाल करते हुए तृणमूल को राष्ट्रीय स्तर पर खड़ा करने की योजना बनाई जा रही है। 

तृणमूल कांग्रेस में वापसी के 24 घंटे के अंदर ही मुकुल राय ने केंद्र सरकार की ओर से उन्हें प्रदान की गई सुरक्षा भी छोड़ दी है। दूसरी तरफ ममता सरकार की ओर से मुकुल की सुरक्षा के लिए राज्य पुलिस के जवानों की तैनाती की है, जिन्होंने शुक्रवार रात से ही मुकुल के उत्तर 24 परगना जिले के कांचरापारा स्थित निवास स्थल पर आकर मोर्चा संभाल लिया है। वे मुकुल के साथ भी चलेंगे। राज्य सचिवालय नवान्न सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मुकुल को ममता सरकार की ओर से 'जेड' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है, हालांकि आधिकारिक तौर पर अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से मुकुल को 'वाई प्लस' श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई थी, जिसे बंगाल विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मार्च में बढ़ाकर 'जेड' श्रेणी का किया गया था।

Edited By: Sachin Kumar Mishra