कोलकाता, जागरण संवाददाता। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) एवं राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के विरोध में मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी जोर-शोर से सड़क पर उतर गई हैं। उन्होंने महानगर में सोमवार से लगातार तीन दिन पदयात्रा की। मुख्यमंत्री ने सीएए एवं एनआरसी को राज्य में किसी भी हाल में लागू नहीं करने देने की घोषणा की है। इसके अलावा इस मुद्दे पर राज्य में विभिन्न जगहों पर विरोध प्रदर्शन जारी है। इसी बीच सीएए एवं एनआरसी के बारे में लोगों को समझाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बंगाल आ सकते हैं।

प्रदेश भाजपा सूत्रों के अनुसार राज्य में नागरिक संशोधन कानून को लेकर सभा करने के लिए अमित शाह को आमंत्रित किया गया है। उनके जनवरी में ही बंगाल में आने की संभावना है। प्रदेश भाजपा की ओर से शाह की सभा के लिए अलग-अलग तीन तारीख प्रस्तावित की गई है।

हालांकि अभी कोई तारीख तय नहीं हुई है। पार्टी सूत्रों के अनुसार सिर्फ अमित शाह ही नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी बुलाने का प्रयास चल रहा है। सीएए व एनआरसी पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विरोध की हवा तेज होते देख प्रदेश भाजपा ने प्रधानमंत्री और गृहमंत्री द्वारा राज्य में सभाओं को संबोधित करना चाहते हैं। पार्टी मोदी एवं शाह की सभाओं के जरिए बंगाल में सीएए एवं एनआरसी पर हवा का रूख बदलना चाहती है।

उल्लेखनीय है कि नागरिक संशोधन कानून के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को अभिनंदन जताने तथा लोगों को इस कानून की वास्तविकता से अवगत कराने के उद्देश्य से 23 दिसंबर को महानगर में महारैली निकाली जाएगी। भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा इस रैली का नेतृत्व करेंगे। इसी तरह की एक रैली उत्तर बंगाल में 24 दिसंबर को होगी। 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस