जागरण संवाददाता, कोलकाता। दक्षिण-24 परगना जिला के जयनगर में स्थानीय विधायक विश्वनाथ दास के कार पर कुछ नकाबपोश हमलावरों द्वारा अचानक फायरिंग की घटना सेे तीन लोगों की मौत हो गई। उक्त हमले में तीन लोगों के मारे जाने की सूचना रही। मौके पर मौजूद रहे विधायक विश्वनाथ दास ने बताया कि हर रोज की तरह वे कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के बाद पेट्रोल पंप पर तेल भरवाने के लिए रुके थे और वहीं पंप के पास स्थित पार्टी कार्यालय में बैठकर चाय पी रहे थे। इसी बीच 10-12 लोग पंप के पास पहुंचे और पहले तो बम फेंका फिर फायरिंग शुरू कर दी। इस हमले में तीन लोगों की मौत हो गई, जिसमें गाड़ी चालक के अलावा दो अन्य शामिल है।

इधर, किसी पर संदेह की बात पूछे जाने पर उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया और कहा कि पुलिस मामले की जांच में जुटी है और जल्द ही हमलावरों को दबोच लेगी। वहीं यह पूछे जाने पर की क्या हमलावरों के निशाने पर आप थे के जवाब में विधायक ने कहा कि नहीं वे निशाने पर नहीं थे। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिरकार उनके निशाने पर कौन था? हालांकि घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस पेट्रोल पम्प पर लगे सभी सीसीटीवी कैमरों को खंगाल रही है और हमलावरों के शिनाख्त में जुटी हुई है।

विधायक की कार को लक्ष्य कर की गई अंधाधुंध गोलीबारी व बमबारी में तृणमूल नेता सहित तीन लोगों की मौत हो गई। इस घटना में विधायक विश्र्वनाथ दास बाल-बाल बच गए। तब वे उस गाड़ी में नहीं थे। घटना गुरुवार को सरेशाम दक्षिण 24 परगना जिले के जयनगर पेट्रोल पंप के समीप हुई। मृतकों में एक तृणमूल कांग्रेस नेता, गाड़ी चालक तथा एक स्थानीय वाशिंदा शामिल है।

मिली सूचना के अनुसार जयनगर के विधायक विश्र्वनाथ दास विभिन्न इलाकों से होते हुए कार से उस पेट्रोल पंप की तरफ पहुंचे। वह रोज इस पेट्रोल पंप के सामने दुकान पर चाय पीते थे, लेकिन इस दिन वह उस चाय दुकान पर नहीं जाकर पहले स्थानीय पार्टी आफिस पहुंच गए। उसके बाद चालक गाड़ी लेकर पेट्रोल पंप पर पेट्रोल लेने पहुंचा। तभी कुछ लोगों ने विधायक की उस कार को घेर कर अंधाधुंध गोलियां चलानी शुरू कर दी।

उन्होंने बम से भी हमला किया। विधायक की गाड़ी पर हमला होते देख एक तृणमूल नेता घटनास्थल की ओर दौड़ आया। उसी दौरान उसे गोली लग गई। इस गोलीबारी में एक स्थानीय वाशिंदा और कार चालक की भी मौत हो गई। विधायक का कहना है कि वह हमलावरों के निशाने पर थे, लेकिन बाल-बाल बच गए।

पुलिस का अनुमान भी है कि बदमाशों ने विधायक को लक्ष्य कर हमला किया होगा। यह पता नहीं चला है कि हमलावर कौन थे। पुलिस गंभीरता से घटना की जांच कर रही है। सरेशाम हुई इस तरह की घटना से स्थानीय लोगों में दहशत है। माकपा विधायक सुजन चक्रवर्ती ने इस घटना को तृणमूल कांग्रेस की गुटबाजी बताई है। उन्होंने ने इस तरह की घटनाओं को दुर्भाग्यजनक बताते हुए कहा कि राज्य में नया शब्द 'शूटआउट' उत्पन्न हो गया है। आए दिन इस तरह की घटनाएं हो रही हैं।

यहां आम जनता की सुरक्षा तो है ही नहीं सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कर्यकर्ताओं की कोई सुरक्षा भी नहीं है। दूसरी तरफ, जिला तृणमूल कांग्रेस अध्यक्ष सुभाशीष चक्रवर्ती ने कहा कि पुलिस घटना की जांच कर रही है। पता चला जाएगा हमलावर कौन थे। माकपा विधायक सुजन चक्रवर्ती की प्रतिक्रिया के जवाब में जिला तृणमूल अध्यक्ष ने कहा कि 'शूटआउट' कोई नया नहीं है। यह वाममोर्चा के शासनकाल में ही शुरू हुआ था। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप