कोलकाता, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने फिर मोदी सरकार पर जमकर प्रहार किया और दावा किया कि उनके जीते जी कभी भी नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) लागू नहीं होगा। नेशनल पापुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) पर आक्रामक ममता ने कहा कि पहले मुझे लगा कि लोगों को सहूलियत प्रदान करने को इसे कराया जाना है, लेकिन जब इसकी असलियत सामने आई तो मैंने बिना देर किए इसे रोक दिया।

बांटने की सियासत नहीं करने दूंगी

उत्तर 24 परगना जिले में नैहाटी उत्सव के उद्घाटन समारोह में पहुंची मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर मोदी सरकार की जमकर खिंचाई की। कहा 'जब तक मैं जीवित हूं तब तक राज्य में किसी भी कीमत पर सीएए और एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा। मैं किसी को इस राज्य में बांटने की सियासत नहीं करने दूंगी।' ममता ने छात्रों और युवाओं को साधने के साथ ही मतुआ संप्रदाय से भी अपनापन दिखाया। कहा, मैं जादवपुर से जब पहली बार सांसद बनी तो शरणार्थियों के लिए बहुत काम किया।

मतुआ समाज को सजग करते हुए कहा कि नागरिकता देने के नाम पर मोदी सरकार उन्हें बरगला रही है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की कथनी और करनी में जमीन आसमान का फर्क है। उनकी सरकार केवल और केवल वोट बैंक की सियासत कर लोगों के अधिकार छीन देश पर राज करना चाहती है, लेकिन मेरे रहते ये लोग कभी कामयाब नहीं होंगे।

भाजपा को कोई डिटेंशन कैंप नहीं बनाने देंगे

ममता ने कहा कि 18 साल की उम्र में छात्र वोट देकर सरकार बना सकते हैं, लेकिन उन्हें सरकार के खिलाफ आंदोलन का कोई अधिकार नहीं है और हाल के दिनों में देश भर में जो दृश्य देखने को मिले हैं वे स्वीकार करने योग्य नहीं है। सरेआम छात्रों पर पुलिस ने लाठियां भांजी और वो भी इसलिए क्योंकि वे सीएए व एनआरसी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। इधर, डिटेंशन कैंप पर तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि इस राज्य में हम भाजपा को कोई डिटेंशन कैंप नहीं बनाने देंगे। इसके खिलाफ आखिरी सांस तक मेरी लड़ाई जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सीएए के जरिए लोगों को नागरिकता देने की बात कर रही है, लेकिन हम तो पहले से ही नागरिक हैं तो फिर कैसे कोई हमारी नागरिकता छिन हमे नागरिक बना सकता है। हमें मोदी सरकार से प्रमाणपत्र की कोई जरूरत नहीं है।

कितने कार्ड बनेंगे

कभी कहा जाता है कि बिना आधार कार्ड कुछ नहीं होगा। फोन और बैंक खाते नहीं खुलेंगे और फिर एक नया कार्ड लेकर चले आते हैं। आम लोग कितनी बार और किस-किस कार्ड के लिए लाइनों में खड़े हो, पहले इसका निर्धारण होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सभी सावधान हो अपने वोटर कार्ड और राशन कार्ड में व्याप्त त्रुटियों को अविलंब ठीक करा लें। जानबूझकर इन कार्डो में केंद्र के इशारे पर गलतियां की जा रही है, ताकि कोई न कोई त्रुटि दिखा लोगों को यहां से बाहर निकाला जा सके।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस