कोलकाता, राज्य ब्यूरो। ममता सरकार ने बंगाल में कोरोना महामारी की स्थिति को देखते हुए 2021 में माध्यमिक और उच्च माध्यमिक के पाठ्यक्रमों में कटौती करने का फैसला किया है। पाठ्यक्रम समिति के प्रस्ताव पर गौर करते हुए शिक्षा विभाग ने अगले साल की माध्यमिक और उच्च माध्यमिक परीक्षाओं के पाठ्यक्रम में कटौती करने पर सहमति जताई है।

माध्यमिक और उच्च माध्यमिक परीक्षाओं के पाठ्यक्रम में 30 से 35 फीसद तक की कटौती की जाएगी। शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने बुधवार को इसकी आधिकारिक तौर पर जानकारी दी। उन्होंने कहा-'पाठ्यक्रम समिति 2021 की माध्यमिक और उच्च माध्यमिक परीक्षाओं के पाठ्यक्रम में 30 से 35 फीसद की कमी करेगी, जो माध्यमिक शिक्षा पर्षद और उच्च शिक्षा परिषद के प्रस्तावों के अनुरूप है। अभिभावकों और छात्रों के एक वर्ग की तरफ से पाठ्यक्रम में कटौती करने का अनुरोध किया गया था। उसी को ध्यान में रखकर यह कदम उठाया गया है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कोरोना के मद्देनजर पहले ही माध्यमिक व उच्च माध्यमिक की प्री-फाइनल परीक्षा आयोजित नहीं करने की घोषणा कर चुकी हैं यानी परीक्षार्थियों को सीधे माध्यमिक व उच्च माध्यमिक परीक्षाओं में बैठने की अनुमति दी जाएगी।

यह पूछे जाने पर कि बंगाल में स्कूल-कालेज दोबारा कब से खुलेंगे, शिक्षा मंत्री ने कहा कि सरकार फिलहाल कोरोना से निपटने की तैयारी कर रही है। गौरतलब है कि कोरोना के चलते मार्च से बंगाल में शैक्षणिक संस्थान बंद हैं। आनलाइन कक्षाएं चल रही हैं, लेकिन बहुत से छात्र स्मार्टफोन या इंटरनेट सुविधा के अभाव में इसमें हिस्सा नहीं ले पा रहे हैं, इस वजह से भी कोरोना संबंधी स्वास्थ्य दिशानिर्देशों का पालन करते हुए स्कूल खोलने पर जोर दिया जा रहा है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप