राज्य ब्यूरो, कोलकाताः बंगाल विधानसभा के शीतकालीन सत्र में अंग्रेजों के जमाने के एक और अनुपयोगी व महत्वहीन हो चुके कानून को समाप्त करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई। मंगलवार को विधानसभा में स्वास्थ्य राज्यमंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने वर्ष 1919 में 16 वर्ष से कम उम्र के किशोरो को धूमपान से रोकने के लिए बनाया गया कानून निरस्त करने के लिए बंगाल किशोर धूमपान निरसन बिल, 2022 पेश किया, जिस पर सत्तापक्ष और विपक्ष के विधानसभा सदस्यों ने चर्चा की।

किशोरों को धूमपान से रोकने 10 से 50 रुपये तक का जुर्माना

इस क्रम में मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने कहा कि हमारे एक साथी विधायक ने चर्चा के दौरान अच्छे से स्पष्ट कर दिया कि यह कानून 103 वर्ष 10 माह और 14 दिन पुराना है। इस में 16 वर्ष से कम उम्र के किशोरों को धूमपान से रोकने के लिए 10 से 50 रुपये तक के जुर्माना का प्रविधान था।

नया कानून बन चुका है उम्र सीमा 18 वर्ष, जुर्माना 200 रुपये

परंतु, 2003 इस बाबत नया कानून बन चुका है जिसमें उम्र सीमा 18 वर्ष और जुर्माना 200 रुपये है। साथ ही अन्य कई और प्राविधान है जिससे किशोरों को धूमपान से बचाया जा सकता है। राज्य के कानून आयोग के अनुशंसा के अनुसार अब इस कानून की उपयोगिता नहीं रह गई थी। इसे समाप्त करने को बिल पेश किया गया।

अब इस बिल को राज्यपाल सीवी आनंद बोस को भेजा जाएगा

मंत्री ने कहा कि राज्य सरकार स्कूलों और अन्य शिक्षण संस्थानों को चिन्हित कर किशोरों को धूमपान से दूर कैसे रखा जाए इसके लिए जागरूकता अभियान भी चला रहा है। ऐसे 972 शिक्षण संस्थान चिन्हित किए गए थे और उनमें से 472 जागरूकता अभियान चलाया भी जा चुका है। चर्चा के बाद ध्वनि मत से बिल विधानसभा में पारित हो गया। अब इस बिल को राज्यपाल सीवी आनंद बोस को भेजा जाएगा और उनके हस्ताक्षर बाद कानून निरस्त हो जाएगा।

किशोर धूमपान निरसन बिल पारित होने के बाद की गई व्यवस्था

किशोर धूमपान निरसन बिल पारित होने के बाद विधानसभा स्पीकर बिमान बनर्जी ने सदन में उपस्थित सदस्यों से कहा कि बुधवार को शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम ने विधायकों को अलीपुर में तैयार हुए म्यूजियम को दिखाने के लिए व्यवस्था की है।

स्पीकर ने विधायकों को दिया अलीपुर म्यूजियम जाने का न्योता

सभी सदस्यों से अपील है कि वे बुधवार को सदन की कार्यवाही समाप्त होने के बाद वहां अवश्य जाएं। स्पीकर के इस अपील को लेकर नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अलीपुर जेल में एक छोटी जगह पर म्यूजियम बनाकर अन्य जमीन को कामर्शियल इस्तेमाल की कोशिश हो रही है यह गलत है।

Edited By: Vijay Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट