कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडालों और कई हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ व इस्कान भक्त की हत्या के खिलाफ रविवार को कोलकाता में बांग्लादेश डेप्युटी हाई कमीशन कार्यालय के सामने इस्कान के भक्तों ने विरोध प्रदर्शन किया। हाथों में तख्तियां लिए इस्कान के समर्थकों ने इस दौरान हरि कीर्तन भजन करते हुए व हाथ में मोमबत्ती लेकर अनोखे अंदाज में अपना विरोध जताया। इधर, नदिया जिला के मायापुर में स्थित इस्कान के वैश्विक मुख्यालय में भी हजारों भक्तों ने बांग्लादेश में इस्कान मंदिर पर हमले व भक्तों की हत्या के खिलाफ विरोध जताया। यहां 68 देशों के हजारों भक्तों ने इस भीषण कृत्य की निंदा की और बांग्लादेश सरकार से अपराधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की अपील की।

दूसरी ओर, भाजपा व बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने भी इस दिन बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों पर हमले की घटना के खिलाफ कोलकाता में विरोध प्रदर्शन किया और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की। उल्लेखनीय है कि बांग्लादेश के नोआखली जिले में शुक्रवार को उपद्रवियों की भीड़ ने कथित तौर पर इस्कान मंदिर पर हमला किया था और एक इस्कान भक्त की हत्या भी कर दी गई थी। इससे पहले गुरुवार को बांग्लादेश में दुर्गा पूजा समारोह के दौरान उपद्रवियों द्वारा पूजा मंडपों और कुछ हिंदू मंदिरों पर हमला किया गया था और कुछ मूर्तियों को भी तोड़ दिया था। इस घटना के खिलाफ बंगाल सहित पूरे देश में हिंदू समुदाय के लोगों में काफी रोष है।इधर, विरोध प्रदर्शन के दौरान इस्कान कोलकाता के उपाध्यक्ष राधारमण दास ने बांग्लादेश में इस्कान मंदिर पर हमले की निंदा की और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हिंसा समाप्त करने के लिए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री के साथ बातचीत करने का आग्रह किया।

राधारमण दास ने कहा, हमने संयुक्त राष्ट्र को भी एक पत्र लिखा है और उनसे इसकी निंदा करने और एक प्रतिनिधिमंडल बांग्लादेश भेजने की अपील की है। उन्होंने आगे कहा, लगभग 500 उपद्रवियों की भीड़ ने हमारे मंदिर परिसर में प्रवेश किया और देवताओं की मूर्तियों को तोड़ा, भक्तों को बेरहमी से घायल कर दिया और उनमें से दो की मौत हो गई। हम बांग्लादेश सरकार से सभी हिंदुओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने और अपराधियों को सजा देने की गुजारिश करते हैं। उन्होंने यह भी चेतावनी दी कि जब तक इसके दोषियों को पकड़ा नहीं जाता तब तक इस्कान पूरी दुनिया में बांग्लादेश के उच्चायोगों के बाहर विरोध प्रदर्शन करेगा। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra