- ब्रिज की सुरक्षा संदेह के घेरे में

- काफी मशक्कत के बाद उसे उतारा गया

जागरण संवाददाता, हावड़ा : एक युवक के अचानक ऐतिहासिक हावड़ा ब्रिज पर चढ़ जाने से उसकी सुरक्षा व्यवस्था संदेह के घेरे में आ गई है। काफी महत्वपूर्ण ब्रिज की सुरक्षा को लेकर हमेशा कोताही बरतने का आरोप उठते रहा है। सोमवार की दोपहर करीब ढाई बजे पुलिस, ट्रैफिक पुलिस की तैनाती मे युवक हावड़ा ब्रिज की शिखर पर चढ़ गया, लेकिन इसकी भनक तक सुरक्षा कर्मियों को नहीं लगी। युवक के ब्रिज पर चढ़ने की खबर से पुलिस प्रशासन हरकत में आ गया। मौके पर काफी संख्या में पुलिस पहुंच गए। इसके साथ ही पुलिस के आलाधिकारी व दमकल विभाग के कर्मचारी व आपदा प्रबंधन की टीम भी मौके पर पहुंचे। इसके बाद उसे ब्रिज से सुरक्षित उतारने में जुट गई पुलिस। युवक का नाम अरुण कुमार बताया गया है। वह उत्तर प्रदेश के गाजीपुर का रहने वाला बताया गया है। अरूण को ब्रिज से सुरक्षित उतारने में पुलिस कर्मियों को काफी मशक्कत करनी पड़ी। वह पुलिस कर्मियों को परेशान करने के लिए ब्रिज के एक हिस्से से दूसरे हिस्से तक जाता रहा। इससे उन्हें काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा। उसे सुरक्षित उतारने के लिए ब्रिज पर चढ़े पुलिस कर्मियों को पैतरे बदलते देखा गया। बताया गया है कि करीब डेढ़ घंटे के प्रयास के बाद पुलिस कर्मियों ने उसे सुरक्षित उतार लिया । इसके बाद गोलाबाड़ी थाने की पुलिस उसे हिरासत में लेकर थाने ने लाई। इधर पुलिस ने बताया कि आरोपित मानसिक रूप से विक्षिप्त है। हावड़ा ब्रिज र चढ़ने के कारणों का पता नहीं चल सका है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है। इधर मौके पर मौजूद लोगों ने बताया कि किसी व्यक्ति के ब्रिज पर चढ़ने की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी कई विक्षिप्त युवक ब्रिज पर चढ़ते रहें हैं। उनका कहना है कि ऐसा कभी नहीं हुआ कि किसी को चढ़ने के दौरान ही पकड़ लिया गया हो। ब्रिज पर चढ़ने में जितना समय लगता है उतने समय में ब्रिज को क्षतिग्रस्त किया जा सकता है। लोगों ने बताया कि ब्रिज की सुरक्षा व्यवस्था भगवान भरोसे है। गौरतलब है कि दो आतंकवादी द्वारा इसे उड़ाने की साजिश की गई थी लेकिन उसे सुरक्षा एजेंसियों ने गिरफ्तार कर ब्रिज को उड़ाने की साजिश को विफल कर दिया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस