-कलकत्ता हाईकोर्ट के दो जजों की पीठ ने तृणमूल की याचिका को भी एकल पीठ में भेजा

- चुनाव प्रक्रिया पर रोक के एकल पीठ के फैसले के खिलाफ दो जजों की पीठ पहुंची थी तृणमूल

- फैसले का इंतजार किए बिना खंडपीठ में आने पर तृणमूल को खरी-खरी

- खंडपीठ में याचिका के मद्देनजर एकल पीठ ने भी भाजपा की याचिका पर सुनवाई आज तक के लिए टाली

- दोनों मामलों पर आज दो बजे सुनवाई, स्थगनादेश भी आज तक

जागरण संवाददाता, कोलकाता: पंचायत चुनाव प्रक्रिया पर कलकत्ता हाईकोर्ट की एकल पीठ के स्थगनादेश के खिलाफ दो जजों की पीठ में पहुंची तृणमूल कांग्रेस की याचिका को सोमवार को उसी एकल पीठ में वापस कर दिया गया है।

इसके पहले दो जजों की पीठ में याचिका के मद्देनजर सोमवार को भाजपा द्वारा एकल पीठ में दायर मामले की सुनवाई को मंगलवार तक टाल दिया गया। साथ ही चुनाव प्रक्रिया पर लागू स्थगनादेश को भी मंगलवार तक बढ़ा दिया गया। अब दोनों मामलों की सुनवाई मंगलवार दोपहर दो बजे न्यायाधीश सुब्रत तालुकदार की एकल पीठ में होगी।

------------------

दो जजों की पीठ ने सुनाई खरी-खरी

सोमवार सुबह साढ़े 10 बजे कलकत्ता हाईकोर्ट के न्यायाधीश विश्वनाथ समद्दार व न्यायाधीश अ¨रदम बंद्योपाध्याय की पीठ में तृणमूल द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई शुरू हुई। सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने तृणमूल के अधिवक्ता व सांसद कल्याण बनर्जी से सख्त लहजे में पूछा कि जब मामला एकल पीठ में विचाराधीन है, तो फैसले का इंतजार किए बिना एकल पीठ को दो जजों की पीठ में क्यों चैलेंज किया? एकल पीठ में मामले के निपटारे तक इंतजार करने में क्या असुविधा थी? उसके बाद न्यायाधीश के पूछने पर राज्य सरकार ने बताया कि मौजूदा पंचायत का कार्यकाल आगामी अगस्त 2018 तक है। इसके बाद अदालत ने राज्य चुनाव आयोग से पूछा कि क्या आप राज्य सरकार के विचारों से सहमत हैं? तो आयोग के प्रतिनिधि ने सहमति जताई। इसके बाद दो जजों की पीठ ने फैसला शाम 4.30 बजे तक सुरक्षित रखा। और तय समय पर मामले को एकल पीठ के हवाले करने का फरमान सुनाया।

-------------------

मामले के जल्द निपटारे का निर्देश

मामले को एकल पीठ में भेजते हुए खंडपीठ ने इसके जल्द से जल्द निपटारे का निर्देश दिया, जरूरत पड़ने पर रोजाना सुनवाई की भी सलाह दी।

--------------------

एकल पीठ में भी एक दिन के लिए टला मामला

इधर, सोमवार को कलकत्ता हाईकोर्ट में न्यायाधीश सुब्रत तालुकदार की एकल पीठ में भारतीय जनता पार्टी द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई हुई। हालांकि तब तक खंडपीठ का फैसला नहीं आया था, जिसकी वजह से मामला मंगलवार दोपहर 2 बजे तक टाल दिया गया। साथ ही स्थगनादेश को मंगलवार तक जारी रखा गया। गौरतलब है कि 12 अप्रैल को न्यायाधीश सुब्रत तालुकदार ने भाजपा की याचिका पर सुनवाई करते हुए पंचायत चुनाव प्रक्रिया पर 16 अप्रैल तक स्थगनादेश जारी किया। साथ ही उसी दिन राज्य चुनाव आयोग से नामांकन संबंधी विस्तृत स्टेट रिपोर्ट भी मांगी गई थी। उसके बाद तृणमूल कांग्रेस ने एकल पीठ के निर्देश को चैलेंज करते हुए दो जजों की पीठ में मामला दायर किया था।

----------------

By Jagran