राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनावों की सुगबुगाहट तेज हो गई है। भाजपा, तृणमूल कांग्रेस समेत तमाम पार्टियों ने रणनीति तैयार करनी शुरू कर दी है। इस बीच राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने शनिवार को कहा कि स्वतंत्र, निष्पक्ष और हिंसा-मुक्त चुनाव बंगाल के लोगों के लिए मेरा आश्वासन है क्योंकि वे इसके हकदार हैं। हमें इसके लिए काम करना चाहिए। गौरतलब है कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर दो दिन पहले बंगाल में हुए हमले के बाद इस समय केंद्र व ममता सरकार के बीच टकराव चरम पर है। वहीं राज्यपाल भी इस घटना को लेकर राज्य सरकार पर लगातार हमलावर हैं। इस बीच उन्होंने एक बार फिर हिंसा मुक्त और निष्पक्ष चुनाव की वकालत की है। 

वास्तविक हितधारक मतदाता हैं और वे इसमें योगदान देंगे

धनखड़ ने कहा कि वास्तविक हितधारक मतदाता हैं और वे इसमें योगदान देंगे। उन्होंने कहा कि मुझे इस बात का मलाल है कि अनधिकृत लोग बिना कानूनी अधिकार के राजनीतिक सत्ता पर कब्जा कर लेते हैं। यह तब है जब मैं अपील करता हूं कि घुसपैठियों के शक्ति को समाप्त करें। खैर, जो कोई भी राजनीति करता है, वह उनकी सोच है, मेरी नहीं।

कानून और व्यवस्था की स्थिति लंबे समय से बिगड़ रही

बताते चलें कि ममता सरकार के साथ राज्यपाल का विभिन्न मुद्दों पर लगातार टकराव चल रहा है। इससे पहले नड्डा के काफिले पर हमले के बाद बंगाल में कानून व्यवस्था के मुद्दे पर राज्यपाल ने एक दिन पहले शुक्रवार को राजभवन में प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। इसमें उन्होंने कहा था राज्य सरकार रास्ते से नहीं भटक सकती हैं। राज्य में कानून और व्यवस्था की स्थिति लंबे समय से लगातार बिगड़ रही है। 

हमले की घटना को लेकर राज्यपाल ने केंद्र को रिपोर्ट भेजी 

उन्होंने ममता को चेतावनी देते हुए कहा था कि वह आग से नहीं खेलें। उन्होंने यहां तक कहा कि यदि राज्य में संविधान का पालन नहीं हुआ तो उनकी भूमिका शुरू होगी। गौरतलब है कि हमले की घटनाओं को लेकर राज्यपाल ने केंद्र को एक रिपोर्ट भी भेजी है। हालांकि इस रिपोर्ट में क्या है इसका उन्होंने खुलासा नहीं किया है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप