राज्य ब्यूरो, कोलकाता : दुर्गा पूजा से पहले बांग्लादेश से हिलसा मछलियों की पहली खेप बुधवार देर रात बंगाल पहुंची। बेनापोल- पेट्रापोल लैंडपोर्ट के रास्ते हिलसा मछलियों से लदे ट्रक राज्य में दाखिल हुआ और पहली खेप हावड़ा के थोक मछली बाजार में पहुंची। आगामी 10 अक्टूबर तक बांग्लादेश से कुल 2080 मिट्रिक टन हिलसा मछलियां यहां पहुंचेंगी, इनमें पहली खेप में अभी 100 मिट्रिक टन हिलसा भेजी गई है।

ये हिलसा बांग्लादेश के पद्मा नदी की है जो प्रसिद्ध है।इधर, बांग्लादेश से हिलसा मछली पहुंचने के बाद हावड़ा के थोक मछली बाजार में गुरुवार सुबह से इसकी बिक्री भी शुरू हो गई। इसको खरीदने के लिए होड़ मची रही। पहले दिन बांग्लादेशी हिलसा मछलियों की कीमत भी काफी उच्च रही।‌

बड़े साइज की हिलसा मछलियां जहां 1200 से 1300 रुपये प्रति किलोग्राम बिकी, वहीं छोटे साइज की हिलसा मछलियों की कीमत 700- 800 रही। अधिकतर मछलियों का आकार एक किलो या उससे अधिक है। यहां के मछली कारोबारियों ने कहा कि जैसे-जैसे मछलियों की खेप यहां पहुंचेगी उस हिसाब से आगामी दिनों में हिलसा के दाम में कुछ कमी आने की उम्मीद है।इसके साथ ही बाद में इस मछली को कोलकाता के भी सभी बड़े बाजारों में बिक्री के लिए भेजा जाएगा।

गौरतलब है कि साल 2012 में शेख हसीना सरकार ने बांग्लादेश से भारत में हिलसा मछली के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था। लेकिन काफी विरोध व बंगाल सरकार की लगातार मांग के बाद बांग्लादेश सरकार बीच- बीच में जैसे दुर्गा पूजा के समय में उपहार के तौर पर बंगालियों के खाने के लिए पद्मा नदी की प्रसिद्ध हिलसा मछली यहां भेजने पर राजी हुई। इसी के मद्देनजर बांग्लादेश के वाणिज्य मंत्रालय ने हाल में 2080 मीट्रिक टन हिलसा को कोलकाता भेजने की अनुमति दी है। यह मछली 10 अक्टूबर तक सिलसिलेवार तरीके से यहां पहुंचेगी। बता दें कि मछली खाने के बेहद शौकीन बंगालियों के लिए हिलसा सबसे पसंदीदा मछली है।

Edited By: Vijay Kumar