कोलकाता, जागरण संवाददाता। विधाननगर कमिशनरेट क्षेत्र के राजारहाट से विदेशी मुद्रा के नाम पर लोगों को रद्दी देकर ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। उनके नाम इलियास हुसैन (48), मोहम्मद रबीउल मीर (38), सुभान हवलदर (37) और मेलोन शीक (34) है। इनके पास से विदेशी मुद्रा और भारतीय रुपये बरामद हुए हैं।

पुलिस चारों से पूछताछ कर रही है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक फलीम नामक शिकायतकर्ता ने गत चार सितंबर को विधाननगर दक्षिण थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उसने बताया कि गत 30 अगस्त को बिलाल नामक एक युवक से चित्तरंजन अस्पताल में उसकी पहली मुलाकात हुई थी।

उसने बताया कि वह अपने पिता का इलाज कराने आया है। पर उसके पास विदेशी मुद्रा है। क्योंकि वह विदेश में काम करता है। जल्दबाजी में पैसे कन्वर्ट कराना भूल गया। उसने फलीम ने एक लाख रुपये मांगे। उसका भरोसा जीतने के लिए 20 डॉलर का एक नोट भी दिया। साथ ही बताया कि उसके पास 20 डॉलर के 100 नोट है। अगर वो एक लाख रुपये देता है, तो वह विदेशी नोटों का बंडल उसे दे देगा। तब फलीम ने हिसाब किया, तो देखा कि एक लाख रुपये के बदले उसे 20 हजार रुपये का फायदा हो रहा है। वह पैसे देने को राजी हो गया।

गत तीन सितंबर को पैसों का लेनदेन हुआ। तब अस्पताल में बिलाल के साथ दो और लोग भी थे, जिन्हें वो अपना पिता और भाई बताया। फलीम ने एक लाख रुपये का भारतीय नोट लिया। बदले में बिलाल ने उसे 20 डॉलर के 100 नोट थमा दिए। जो कपड़े में लिपटा था। फलीम बंडल लेकर घर पहुंचा। उसे खोला तो उसमें से बर्तन धोने वाला विम बार साबुन निकला, जो कागज के रद्दी में लपेटा गया था। इसके बाद फलीम ने चार सितंबर को विधाननगर दक्षिण थाने में आरोपितों के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई।

तभी से जांच में जुटी पुलिस ने चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। इनसे पूछताछ कर पता लगाने की कोशिश कर रही है कि ठगी के इस गिरोह में और कौन-कौन शामिल हैं। इन लोगों ने और किन-किन लोगों को अपना शिकार बनाया है।