कोलकाता, राज्य ब्यूरो।  बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) के पूर्व उपाध्यक्ष शंकर नाथ बागची का मंगलवार को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। वे 71 वर्ष के थे। कैब ने उनके निधन पर गहरा शोक जताया है।

कैब अध्यक्ष अभिषेक डालमिया ने अपने शोक संदेश में कहा-'शंकर नाथ बागची सही मायने में क्रिकेट प्रेमी और दक्ष क्रिकेट प्रशासक थे। वे मेरे प्रिय सहकर्मी थे। उनके साथ मैंने महिला क्रिकेट के विकास के लिए काम करने को काफी समय बिताया है। बंगाल में महिला क्रिकेट में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें।' 

फुटबॉलर जय महतो की मौत मामले में बयान दर्ज

सिलीगुड़ी शहर के एक उदीयमान युवा फुटबॉलर जय कुमार महतो की मौत के मामले की जांच  के लिए डॉ. देवजानी बसु मल्लिक के नेतृत्व में गठित जांच समिति ने जांच शुरू कर दी है। इस जांच समिति के समक्ष मंगलवार को सिलीगुड़ी फाइट कोरोना नामक संगठन के सदस्यों अनिमेष बोस, विप्लव रॉय व मनोज वर्मा आदि ने अपने बयान दर्ज करवाए।

इस बाबत बातचीत में मनोज वर्मा ने कहा कि फुटबॉलर जय कुमार महतो मात्र 25 साल का था। वह चोटिल हो गया था। उसके सीने में तकलीफ थी। उसी का इलाज कराने के लिए उसे नर्सिंग  होम ले जाया गया। मगर, नर्सिंग  होम ने उसे भर्ती करने से इंकार कर दिया। उसके परिजन लाख मिन्नत करते रहे पर कोई सुनवाई नहीं हुई। अंतत: उसे नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) ले जाया गया।

जहा कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। यदि समय रहते नर्सिंग  होम उसे भर्ती कर लेता और उसका इलाज शुरु कर देता तो संभवत: फुटबॉलर आज हम सबके बीच होता। नर्सिंग  होम के इस गैर-जिम्मेदार रवैये को कदापि बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। इसके विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई होनी चाहिए।

अन्य क्रीड़ा प्रेमियों ने भी इस पूरे मामले की जांच  कर नर्सिंग होम के संबंधित दोषियों के विरुद्ध कठोर से कठोर कार्रवाई की माग की है। याद रहे कि इससे पूर्व भी बीती 30 जून को शहर के खेल प्रेमियों ने कंचनजंघा स्टेडियम परिसर में एकत्रित होकर विरोध प्रदर्शन किया था। युवा फुटबॉलर जय महतो की मौत के मामले में चारों ओर से उठी जांच की माग के मद्देनजर शासन प्रशासन की ओर से जांच  कमेटी गठित कर इसकी जांच शुरू कर दी गई है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप