जागरण संवाददाता, जलपाईगुड़ी। खाद्य विभाग की ओर से ग्राम-ग्राम में शापिंग मॉल बनाने की योजना है। इस प्रकार के राशन की दुकान में जरूरत की 500 प्रकार की सामग्री मिलेगी। उक्त बातें खाद्यमंत्री ज्योतिप्रिय मल्लिक ने कही।

उन्होंने कहा कि पूरे उत्तर बंगाल में 21 हजार राशन दुकानों को सजाने का काम होगा। जलपाईगुड़ी जिले से ही इस काम की शुरूआत की जा रही है। राज्य सरकार फ्यूचर ग्रुप के साथ जुड़कर शापिंग मॉल तैयार कर रही है। इस प्रकार के बीग बाजार में राशन से जुड़े सामग्रियों की बिक्री होगी। जो बाजार से कम कीमत पर ही मिलेगी। इसमें राज्य सरकार का सहयोग होगा। गांव के लोगों को खरीदारी के लिए शहर के शापिंग माल में जाना पड़ता है। इसका ख्याल रखकर ही ग्राम-ग्राम में बीग बाजार व शापिंग मॉल बनाने का फैसला लिया गया है।

खाद्यमंत्री ने कहा कि फ्यूचर ग्रुप ही दुकान की सजावट कर देगी। यहां चावल, दाल, तेल, ब्रिटानिया समेत कई प्रसिद्ध कंपनियों की सामान दी जाएगी। पूरे उत्तर बंगाल में करीब साढ़े आठ हजार राशन की दुकानें हैं। इसमें केवल जलपाईगुड़ी में 640 दुकान है। आगामी 31 अक्टूबर तक शापिंग मॉल का काम समाप्त करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि चाय बागान के परिवार टूटकर अलग-अलग होते जा रहे हैं।

फलस्वरूप खाद्य विभाग को समस्या हो रही है। आगामी 21 दिनों के भीतर जलपाईगुड़ी व अलीपुरद्वार चाय बागान इलाकों का सर्वे कर रिपोर्ट जमा देने के लिए कहा गया है। मंत्री ने कहा कि जलपाईगुड़ी, अलीपुरद्वार व कूचबिहार के किसान सरकारी मूल्य पर धान खरीदने में काफी पीछे हैं। कुछ किसान तो धान बेचने के बजाए जमा कर रख रहे हैं।

उन्होंने जलपाईगुड़ी नगरपालिका के प्रयास हॉल में राशन व्यवस्था को लेकर जरूरी बैठक भी की। इसके बाद बात करते हुए कहा कि जलपाईगुड़ी जिले में 16116 हेक्टेयर जमीन पर 4 लाख 25 हजार मैट्रिक टन धान उत्पादन हो रहा है। लेकिन जिला खाद्य विभाग को मात्र 25 फीसद धान सरकारी मूल्य में खरीदने के लिए कहा गया है। खाद्यमंत्री ने जानकारी देते हुए कहा कि सिक्किम के बाद पहली बार एफसीआई के माध्यम से चावल असम भेजा जाएगा।

आज के कार्यक्रम में एसजेडीए चेयरमैन सौरभ चक्रवर्ती, डीएम शिल्पा गौरसरिया,अलीपुरद्वार व जलपाईगुड़ी जिले के खाद्य विभाग के अधिकारी, श्रम विभाग के अधिकारी, बीडीओ, चाय बागानों के मालिक समेत अन्य मौजूद थे। 

Posted By: Preeti jha