दीपक भट्टाचार्य, कोलकाता। East West Metro. 24 अक्टूबर, 1984 को कोलकाता में देश की पहली भूमिगत मेट्रो रेल सेवा शुरू हुई थी। अब 35 वर्ष बाद कोलकाता वासियों को एक अन्य रूट ईस्ट वेस्ट के रूप में दूसरी मेट्रो सेवा की सौगात मिलने जा रही है, जिसका उद्घाटन गुरुवार शाम रेल मंत्री पीयूष गोयल करेंगे। प्रथम चरण में साल्टलेक सेक्टर पांच से साल्टलेक स्टेडियम के बीच 5.3 किमी तक पहली मेट्रो दौड़ेगी। स्वचालित अत्याधुनिक मेट्रो रैक को फिलहाल मोटरमैन द्वारा चलाया जाएगा।

अब तक सड़क मार्ग से उक्त दूरी को तय करने में करीब डेढ़ घंटा लगता था, लेकिन मेट्रो के शुरू होने से यह सफर कुल 13 मिनट में पूरा होगा। छह कोच वाली यह नई अत्याधुनिक मेट्रो है। गुरुवार को उद्घाटन होने के बाद शुक्रवार से आम लोगों के लिए मेट्रो सेवा शुरू हो जाएगी। कार्यक्रम में केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री बाबुल सुप्रियो, बंगाल के अग्नि एवं आपातकालीन सेवा (स्वतंत्र प्रभार) एवं वन मंत्री सुजीत बसु, सांसद काकलि घोष दस्तीदार तथा विधानगर की मेयर कृष्णा चक्रवर्ती आदि उपस्थित रहेंगे।

गौरतलब है कि 24 अक्टूबर, 1984 में भारत की पहली भूमिगत मेट्रो की शुरुआत कोलकाता में हुई थी। शुरुआत में धर्मतला से भवानीपुर के बीच कुल 3.4 किलोमीटर के हिस्से में ट्रेन को चलाया गया था। बदलते समय के हिसाब से इसका विस्तार किया गया। वर्तमान में नोआपाड़ा से कवि सुभाष तक कुल 27.22 किमी में इसका दायरा है।

छह स्टेशनों के बीच दौड़ेगी मेट्रो ट्रेन

सूत्रों के अनुसार, ईस्ट वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत प्रथम चरण में सेक्टर 5 से साल्टलेक स्टेडियम तक कुल 5.3 किमी का काम बीते वर्ष ही पूरा कर लिया गया था। इसके बाद सीआरएस ने प्रथम चरण में तैयार मेट्रो स्टेशन सेक्टर-5, करुणामयी, सेंट्रल पार्क, सिटी सेंटर, बंगाल केमिकल, साल्टलेक स्टेडियम स्टेशनों का निरीक्षण कर यात्री सुरक्षा, सुविधा समेत अन्य तकनीकी बारीकियों को देखा था। निरीक्षण के बाद सीआरएस ने उद्घाटन के लिए समयसीमा 30 नवंबर तक निर्धारित कर दी थी, लेकिन राजनीतिक दखलअंदाजी और तकनीकी समस्याओं की वजह से उद्घाटन कार्यक्रम टल गया था।

रेलवे प्रशासन के अनुरोध पर सीआरएस ने समय सीमा बढ़ाते हुए 29 फरवरी तक प्रथम चरण का उद्घाटन करने की शर्त रख दी थी। रेल प्रशासन ने लंबे समय तक ट्रायल रन कर और तकनीकी खामियों को दुरुस्त कर प्रथम चरण के उद्घाटन की तारीख 13 फरवरी तय कर दी थी। उधर, ईस्ट वेस्ट मेट्रो के लिए यात्री किराया भी निर्धारित कर दिया गया।

न्यूनतम पांच व अधिकतम 30 रुपये किराया

तालिका के अनुसार 2 किमी तक के लिए 5 रुपये, 5 किमी तक 10 रुपये, 10 किमी तक 20 रुपये तथा 16.5 किमी तक के लिए 30 रुपये यात्रियों को चुकाने होंगे।

उद्घाटन के अगले दिन से लोगों के लिए शुरू होगी सेवा

गुरुवार शाम करीब पांच बजे रेल मंत्री पीयूष गोयल सेक्टर 5 से साल्टलेक स्टेडियम तक प्रथम चरण का उद्घाटन करेंगे। पहले दिन सिर्फ एक ही ट्रेन चलाई जाएगी। अगले दिन यानी शुक्रवार से ट्रेनों को कामर्शियल तौर पर चलाया जाएगा। यात्रियों को ईस्ट वेस्ट मेट्रो सेवा सुबह 8 से शाम 8 बजे तक मिलेगी। शुरुआत में 20 मिनट के अंतराल में ट्रेनें चलेंगी। यात्री संख्या बढ़ने पर कम समय के फासले में ट्रेनें चलाने पर निर्णय लिया जाएगा। फिलहाल, स्वचालित अत्याधुनिक रैक को मोटरमैन द्वारा चलाया जाएगा। इसके लिए उन्हें विशेष प्रशिक्षण दिया गया है।

आगामी दिनों में बिना मोटरमैन के ही ट्रेनें चलाई जाएंगी। प्रथम चरण के शुरू हो जाने से अभी तक सड़क मार्ग से डेढ़ घंटे में तय होने वाली 5.3 किमी की दूरी कुल 13 मिनट में पूरी हो जाएगी। उधर, साल्टलेक स्टेडियम से फूलबागान तक मेट्रो सेवा शुरू करने की तैयारी भी जोरशोर से शुरू कर दी गई है।

आजादी के कुछ वर्ष बाद ही कोलकाता मेट्रो बनाने पर विचार

कोलकाता मेट्रो को बनाने का विचार आजादी के कुछ वर्ष बाद ही बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री बिधान चन्द्र राय के जेहन में आया था। इसे लेकर फ्रांसीसी विशेषज्ञों की टीम ने एक सर्वे भी कर लिया था लेकिन उस समय कुछ ठोस काम नहीं हुए थे। इसके बाद 1971 में कोलकाता में तीन मेट्रो लाइन के प्रस्ताव पास किए गए जिनकी कुल लंबाई 97.5 किलोमीटर थीस, लेकिन इनमें से केवल एक पर दमदम से टालीगंज तक कार्य शुरू हुआ जिसे बाद में नोआपाड़ा से गरिया तक विस्तार दिया गया।

अब ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना के तहत साल्टलेक आइटी सेक्टर से हावड़ा मैदान राजारामतल्ला तक कुल 16.6 किलोमीटर का कार्य पूरा किया जा रहा है जिसमें से प्रथम चरण का उद्घाटन हो रहा है। इस पूरी परियोनजा में 6 एलिवेटिड और 6 अंडरग्राउंड स्टेशन हैं। इसमें सियालदाह और हावड़ा रेलवे स्टेशन पर इंटरचेंज स्टेशन हैं। यह गंगा नदी के नीचे से मेट्रो दौडे़गी। उम्मीद की जा रही है कि वर्ष 2022 तक इस पूरे रूट में सेवा शुरू हो जाएगी।

यह भी पढ़ेंः कलकत्ता हाई कोर्ट ने मेट्रो रेलवे सुरंग के निर्माण शुरू करने को दी अनुमति

 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस