कोलकाता, राज्य ब्यूरो। केंद्रीय चुनाव आयोग ने उप चुनाव आयुक्त सुदीप जैन को हटाने की तृणमूल कांग्रेस की मांग सिरे से खारिज कर दी है। तृणमूल ने सुदीप जैन पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वे पूर्वाग्रह से ग्रसित हैं और संघीय ढांचे के मानकों को तोड़ रहे हैं। तृणमूल के आरोपों पर चुनाव आयोग ने कहा कि सभी चुनाव उपायुक्त एवं आयोग के मुख्यालय में पदस्थ अन्य अधिकारी भारत के संविधान के मुताबिक और चुनाव कराने के लिए निर्धारित किए गए नियमों के तहत अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं। छिटपुट अपवाद हो सकते हैं, जिनमें चुनाव आयोग तुरंत सुधारात्मक कदम उठाता है। आयोग को चुनाव उपायुक्त सुदीप जैन की ईमानदारी और निष्पक्षता पर पूरा भरोसा है।

 चुनाव आयोग ने आगे कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है लेकिन ऐसा पहली बार नहीं है, जब चुनाव अधिकारियों के खिलाफ इस तरीके के आरोप लगाए गए हैं, खास तौर पर चुनावों से ठीक पहले या चुनावों के दौरान। दूसरी ओर बंगाल विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए आयोग ने शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर दी। दूसरे चरण में राज्य के चार जिलों की 30 विधानसभा सीटों के लिए वोट पड़ेंगे।

 तृणमूल के राज्यसभा सदस्य डेरेक ओबरायन ने गुरुवार को राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीईओ) को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि सुदीप जैन का व्यवहार पक्षपातपूर्ण है। उनके निर्देश में बंगाल में निष्पक्ष चुनाव नहीं हो सकते इसलिए उन्हें बंगाल चुनाव के प्रभार से तुरंत हटाया जाए। उन्होंने आगे कहा था कि पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान सुदीप जैन ने कई ऐसे कदम उठाए थे, जो चुनाव आयोग के नियमों के खिलाफ थे। तृणमूल को उनपर कोई भरोसा नहीं है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप