राज्य ब्यूरो, कोलकाता : कोरोना महामारी को लेकर पूरे देश में लॉकडॉउन है, लेकिन बंगाल में भारत-बांग्लादेश अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर तस्करी में शामिल अपराधी इस समय भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के सजग जवानों ने मालदा जिले में भारत-बांग्लादेश सीमा इलाके में शनिवार को तस्करी के प्रयासों को नाकाम करते हुए दो अलग-अलग जगहों से चार लाख रुपये मूल्य के जाली नोटों को जब्त किया है। इस सिलसिले में एक तस्कर को भी गिरफ्तार किया गया।

जाली नोटों को बांग्लादेश से भारत में तस्करी किया गया था। बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर मुख्यालय की ओर से बताया गया कि जाली नोटों की तस्करी के बारे में प्राप्त गुप्त सूचना पर कार्रवाई करते हुए  मालदा सेक्टर अंतर्गत 24वीं बटालियन के जवानों ने बीओपी सुखदेवपुर व बीओपी चूरियंतपुर क्षेत्र में अभियान चलाकर 2-2 लाख रुपये के जाली नोट जब्त किए। अधिकारियों ने बताया कि बीओपी चूरियंतपुर इलाके से जवानों ने दो लाख के जाली नोटों के साथ एक तस्कर को भी पकड़ा। गिरफ्तार तस्कर का नाम तस्लीम शेख है। वह मालदा के कालियाचक थाना अंतर्गत गोपाल नगर गांव का निवासी है।

दोनों जगहों से जब्त सभी जाली नोट ₹2000 मूल्य के हैं। बीएसएफ ने आगे की कार्रवाई के लिए जब्त जाली नोटों व गिरफ्तार तस्कर को कालियाचक थाने को सौंप दिया है। उल्लेखनीय है कि मालदा सेक्टर अंतर्गत 24 वीं बटालियन के जवानों ने बीओपी सुखदेवपुर इलाके से 1 अप्रैल को भी दो लाख रुपये के जाली भारतीय नोट जब्त किए थे।  गांव में तलाशी अभियान चलाया।  गौरतलब है कि इस साल अब तक दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के जवानों ने कुल 20,63,000 रुपये मूल्य की जाली भारतीय मुद्रा जब्त किया है जब उसे अवैध रूप से अंतरराष्ट्रीय सीमा पार कर बांग्लादेश से भारत में तस्करी किया गया था।

सीमा पर हमारे जवान सजग : डीआइजी

इधर, बीएसएफ के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के डीआइजी सुरजीत सिंह गुलेरिया ने बताया कि कोरोना महामारी के बावजूद इस परिस्थिति में भी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात हमारे सीमा सुरक्षा बल के जवान अपने घरों से कोसों दूर होकर दिन-रात अपनी ड्यूटी निभाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। ताकि कोई भी अराजकता तत्व अपने देश को नुकसान ना पहुंचा पाए और सीमा पर पूरी तरह तस्करी को रोका जा सके। उन्होंने कहा कि बीएसएफ के जवान सीमा पर पूरी मुस्तैदी से देश सेवा के लिए सत्य निष्ठा, कर्मठता तथा प्रतिबद्धता से जुटे हैं।गुलेरिया ने बताया कि इस विकट परिस्थिति में भी बीएसएफ जवानों को सीमा की सुरक्षा के साथ तस्करों के साथ लड़ाई लड़नी पड़ रही है। इसके अलावा बीएसएफ कोरोना से बचाव के लिए सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों को जागरूक भी कर रही है।

Posted By: Vijay Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस