जागरण संवाददाता, कोलकाता : तीन विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने के साथ ही चुनाव आयोग ने 2021 में होने वाले बंगाल विधानसभा चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है। चुनाव आयोग की ओर मतदाताओं का मिजाज टटोलने के लिए समीक्षा की जाएगी। समीक्षा के जरिए चुनाव के दौरान मतदाताओं का अनुभव जानने की कोशिश की जाएगी। यह काम निजी एजेंसी से कराया जाएगा।

आयोग सूत्रों के मुताबिक इस बाबत दिल्ली से राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी के कार्यालय को एक निर्देशिका भेजी गई है। समीक्षा के लिए फार्म भी तैयार किया गया है। बताया जाता है कि चुनाव आयोग की ओर से करीब 19 विधानसभा क्षेत्रों में बूथ स्तरीय समीक्षा की जाएगी। इसके लिए प्रत्येक पोलिंग बूथ से 15 परिवारों का चयन होगा।

राज्य के मुख्य चुनाव अधिकारी (सीइओ) कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि समीक्षा के जरिए इस साल हुए लोकसभा चुनाव के दौरान मतदाताओं का अनुभव जानने की कोशिश की जाएगी। इसके अलावा चुनाव के दौरान लोगों के साथ चुनाव आयोग का संपर्क कैसा रहा, इसे लेकर भी जानकारी जुटाई जाएगी। बुजुर्ग व दिव्यांग मतदाताओं के साथ युवा मतदाताओं की राय भी समीक्षा के जरिए ली जाएगी। आम मतदाता के साथ निर्धारित फार्म में निर्वाचन अधिकारी, बीडीओ, जिला चुनाव अधिकारी, पीठासीन अधिकारी को भी अपना अनुभव साझा करना होगा।

सूत्रों के अनुसार 2021 के मई महीने में बंगाल विधानसभा चुनाव हो सकता है। इसके मद्देनजर दिसंबर से ही समीक्षा शुरू करने को कहा गया है। छह महीने तक समीक्षा का काम चलेगा और 2020 के मध्य तक रिपोर्ट चुनाव आयोग के पास जमा पड़ेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस