राज्य ब्यूरो, कोलकाता : महानगर के बहूबाजार इलाके में ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना के तहत सुरंग की खुदाई का काम शुरू होते ही एक बार फिर कई मकानों में दरारें पड़ने की खबर है। इसे लेकर स्थानीय वाशिंदे बेहद आतंकित हैं। गत 31 अगस्त को मेट्रो सुरंग की खुदाई के दौरान एक मशीन के बफर के टकराने से पानी के रिसाव आदि के कारण इलाके के दर्जनों मकानों में दरारें पड़ने के कारण कलकत्ता हाईकोर्ट ने काम पर रोक लगा दी थी। करीब पांच महीने बाद हाईकोर्ट से इजाजत मिलने के बाद सोमवार को ही सुरंग की खुदाई का काम शुरू हुआ था लेकिन एक बार फिर कई मकानों में दरारें पड़ने से लोग आतंकित हो उठे। बताया जा रहा है कि बहूबाजार के चैतन्य सेन लेन में गुरुवार को तीन-चार मकानों में दरारें देखी गईं। सूचना पर कोलकाता मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (केएमआरसी) के इंजीनियरों व अधिकारियों ने तुरंत मौके पर जाकर जायजा लिया। केएमआरसी के अधिकारियों ने हालांकि लोगों को आश्वासन दिया कि किसी को आतंकित होने की जरूरत नहीं है। विशेषज्ञ हालात पर नजर रख रहे हैं। उनका कहना था कि पांच महीने पहले हुए हादसे के बाद बहुत सावधानी के साथ हर कदम हम उठा रहे हैं। इससे पहले दोबारा काम शुरू होने के पहले ही मेट्रो प्रबंधन ने एहतियातन बहूबाजार इलाके में क्षतिग्रस्त व पुरानी इमारतों के निवासियों को अस्थाई तौर पर पहले ही होटलों व गेस्ट हाउस में शिफ्ट कर दिया था।

गौरतलब है कि पिछले साल 31 अगस्त को सुरंग की खुदाई के दौरान बहूबाजार इलाके में एक मशीन के बफर के टकराने से बड़ा हादसा हो गया था। इसके कारण इस इलाके के दर्जनों इमारतों में दरारें आ गई थीं, जिसके बाद करीब 323 निवासियों को होटलों में शिफ्ट कराया गया था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस