जागरण संवाददाता, कोलकाता : दुर्गोत्सव के दौरान बारिश होगी या नहीं यह अभी भी स्पष्ट नहीं है, बावजूद इसके मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो अबकी बारिश पूजा की तैयारियों को बाधित करने वाली है। क्योंकि बंगाल की खाड़ी में बनते निम्न दबाव के कारण महालया के दौरान झमाझम बारिश हो सकती है। इधर, महानगर समेत राज्य भर में मंडप निर्माण कार्य तेजी से जारी है और कुम्हारटोली में भी मूर्तियों की रंगाई अब शुरू हो गई है। वहीं कपड़ों व अन्य सामानों की खरीददारी को लोगों की भीड़ बाजार इलाकों में देखते बन रही है। ऐसे में अगर उत्सव के माहौल में बारिश होती है तो इसका असर लोगों के उत्साह पर भी पड़ेगा।

इस बीच मौसम विभाग का कहना है कि अगले तीन दिनों तक बारिश की कोई संभावना नहीं है, लेकिन 23 सितंबर यानी सोमवार को बारिश हो सकती है। साथ ही 25 व 26 सितंबर को भारी बारिश होने की आशंका जाहिर की गई है। वर्तमान में निम्न दबाव आध्र प्रदेश तट की ओर बढ़ रहा है, लेकिन पूजा के दौरान इसका असर बंगाल में देखने को मिल सकता है। आमतौर पर कोलकाता में 8 अक्टूबर तक मानसून में तब्दील देखने को मिलता है, लेकिन पिछले कुछ वर्षो के अनुभव की बात करे तो अक्टूबर के तीसरे सप्ताह में भी बारिश होने से पूजा आयोजकों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ा है। हालांकि, जून-जुलाई में कम बारिश होने के बावजूद अगस्त में कोलकाता में भारी बारिश हुई है। वहीं मौसम विभाग के पूर्वी अंचल के प्रमुख व उपमहानिदेशक संजीव बंद्योपाध्याय ने कहा कि यह दबाव कम हो सकता है, लेकिन बारिश की तीव्रता इस बात पर निर्भर करेगी कि निम्न दबाव की दिशा की ओर है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस