कोलकाता, राज्य ब्यूरो। राज्य में कोरोना संक्रमित सबसे पहले डॉक्टर फवाद हलीम ने कोरोना से ठीक होने के बाद चार लोगों की जान बचाई। उन्होंने प्लाज्मा दान के लिए एक मिसाल कायम की है। उन्होंने कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल के रक्त आधान विभाग को एक पंक्ति में चार बार प्लाज्मा का दान किया। मालूम हो कि कोरोना मरीजों के लिए हृदय रोग के इलाज के लिए प्लाज्मा थेरेपी का प्रायोगिक अनुप्रयोग पूरे देश में चल रहा है। इस राज्य में कलकत्ता मेडिकल कॉलेज अस्पताल और बेलियाघाटा आइडी अस्पताल के रक्त आधान विभाग द्वारा प्रयोगात्मक आवेदन शुरू किया गया था।चिकित्सा शोधकर्ताओं की एक टीम अभी भी इस पर काम कर रही है।

कैसे होता प्लाज्मा दान

एक बार कोरोना संक्रमित होने के बाद शरीर के विभिन्न रक्त घटकों और कई परीक्षणों के स्तर का प्रदर्शन किया जाता है। शरीर में एंटीबॉडी का स्तर भी देखा जाता है। आइसीएमआर के दिशा निर्देशों के अनुसार उपयुक्त होने पर व्यक्ति के शरीर से प्लाज्मा एकत्र किया जाता है। कोरोना रोग से उबरने के बाद कई लोग प्लाज्मा दान करने के लिए मेडिकल कॉलेज अस्पताल में आए।

संक्रमित रोगियों के इलाज के विभाग के प्रमुख ने कहा यह एक कर्तव्य है। बहुत कुछ कर रहे हैं। कई ने एक से अधिक बार प्लाज्मा दान किया है। लेकिन कोलकाता और हमारे राज्य में यह पहली बार है कि एक ही व्यक्ति ने लगातार चार बार हल निकाला है। यह उदाहरण हमारे चिकित्सकों और आम जनता को प्रेरित करेगा। हम डॉक्टर फवाद हलीम को बधाई देते हैं। अधिक लोग जो कोरोना रोग से उबर चुके हैं, उन्हें भी प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आना चाहिए।

मालूम हो कि कोरोना के प्रकोप के तुरंत बाद चिकित्सा संकट शुरू हो गया। उस समय केवल फवाद हलीम के नेतृत्व में डॉक्टरों की एक टीम ने दिन-रात काम किया। उन्होंने 50 रुपये में डायलिसिस और इलाज के लिए अपना छोटा संस्थान खोला। कुछ ही दिनों के बाद फवाद को कोरोना संक्रमण हो गया। स्थिति गंभीर हो गई। ठीक होने के बाद घर लौटे और 50 रुपये के लिए क्लिनिक को फिर से शुरू कर दिया। उन्होंने दृढ़ प्लाज्मा दान करने के लिए एक मिसाल कायम की। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021