जागरण संवाददाता, कोलकाता : महानगर समेत राज्य के अलग-अलग हिस्सों में डेंगू पीड़ितों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। अब तक कई लोगों की जान भी जा चुकी है। इसी कड़ी में इएम बाइपास के आनंदपुर में डेंगू से पीड़ित एक और बच्चे की मौत हो गई। उसकी पहचान आरुष दत्ता (11) के रूप में हुई। वह उत्तर कोलकाता के मानिकतल्ला थानांतर्गत गोयाबगान का रहने वाला था। मंगलवार को आनंदपुर स्थित एक गैरसरकारी अस्पताल में उसने अंतिम सांस ली। मृत्यु प्रमाण पत्र में भी डेंगू से मौत होने का उल्लेख किया गया है। उधर, परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर चिकित्सा में लापरवाही का आरोप लगाया। कहा कि सोमवार को जब आरुष को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, तो उसका प्लेटलेट्स बढ़ रहा था। वह रात में भी ठीक था। तब अचानक ऐसा क्या हुआ कि सुबह उसकी मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक मानिकतल्ला निवासी आरुष पिछले कई दिनों से बीमार था। परिजनों ने उसके खून की जांच कराई गई, तो उसमें डेंगू के लक्षण मिले। इसके बाद पिता ने उसे उत्तर कोलकाता के एक नर्सिग होम में भर्ती कराया। वहां से सोमवार आरुष को आनंदपुर स्थित गैर सरकारी अस्पताल में रेफर कर दिया गया। वहीं, इस दिन सुबह उसकी मौत हो गई। उसके मृत्यु प्रमाण पत्र में भी डेंगू से ही मौत होने की बात लिखी गई है। गौरतलब हो कि पिछले एक महीने के भीतर सॉल्टलेक में ही डेंगू से दो बच्चों की मौत हो चुकी है, जिनकी उम्र 10 से 11 वर्ष के बीत थी। वहीं बागुईआटी में भी एक महिला की मौत हुई थी। वहीं 700 से डेंगू पीड़ित लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया।

Posted By: Jagran