जागरण संवाददाता, कोलकाता : भले ही चक्रवात बुलबुल के कहर तले दक्षिण व उत्तर 24 परगना, नदिया समेत अन्य कई तटवर्ती इलाके प्रभावित हुए हो। लेकिन कोलकाता व आसपास के उपनगरीय इलाकों में भारी बारिश होने से दीपावली के बाद व्याप्त प्रदूषण स्तर में गिरावट दर्ज की गई है, जो शहरवासियों के लिए खुशी खबरी है। दरअसल, महानगर में दीपावली व छठ पूजा के दौरान व्यापक आतिशबाजी से यहां प्रदूषण का स्तर सामान्य से 17 गुना अधिक बढ़ गया था। वहीं राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से जारी रिपोर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया था कि दीपावली के दौरान अत्याधिक आतिशबाजी के कारण महानगर की हवा में प्रदूषण का सूचकाक 863 पर पहुंच गया था, जो सामान्य से करीब 17 गुना अधिक रहा। साथ ही बताया गया कि हवा में प्रदूषण कारक तत्वों की मात्रा अगर 50 मिलीग्राम हो तो वह सामान्य मानी जाती है और जैसे ही यह आकड़ा 200 पर पहुंचता है, उसे खतरनाक की श्रेणी में रखा जाता है। ऐसे में कोलकाता में दीपावली व छठ पूजा के बाद से प्रदूषण शहरवासियों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ था। लेकिन चक्रवात बुलबुल के प्रभाव में निर्मित निम्न दबाव के कारण हुई भारी बारिश ने प्रदूषित कोलकाता व आसपास के इलाकों को काफी हद तक प्रदूषण मुक्त करने का काम किया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस