कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल के दमकल मंत्री सुजीत बोस और उनकी पत्नी के बाद अब उनके इकलौते पुत्र की कोविड-19 रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। उधर, कोरोना वायरस से संक्रमित बंगाल के अग्निशमन विभाग के मंत्री सुजीत बोस बुधवार को उपचार के लिए ईएम बाई पास स्थित अपोलो अस्पताल में भर्ती हो गए। अब तक वे घर पर क्वारंटाइन होकर अपना उपचार करा रहे थे। परंतु, बेहतर उपचार के लिए उन्होंने अस्पताल में भर्ती होने का निर्णय लिया है। बताते चलें कि उनकी पत्नी और पुत्र भी कोरोना से संक्रमित हैं। यही नहीं उनके घर में काम करने वाले सहायक पहले कोरोना से संक्रमित हुए थे। कहा जा रहा है कि बोस में कोरोना के कोई लक्षण नहीं मिले थे। परंतु, उनकी जांच हुई तो रिपोर्ट पॉजेटिव आया है। हालांकि, मंत्री के करीबियों के मुताबिक उनका स्वास्थ्य ठीक है लेकिन उन्होंने बेहतर उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती हुए हैं।

बता दें कि पिछले सप्ताह दमकल मंत्री, उनकी पत्नी तथा उनके घर में काम करने वाली एक सहायिका में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई थी। सुजीत और उनके परिजनों ने घर में काम करने वाली एक सहायिका के संक्रमित होने के बाद टेस्ट करवाया था। हालांकि पहली जांच में उनके पुत्र की रिपोर्ट निगेटिव आई थी।

सूत्रों के अनुसार, दूसरी बार जांच में मंगलवार को उनके पुत्र की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। इससे पहले मंत्री सुजीत बोस के कोरोना संक्रमित होने के बाद दमकल विभाग के महानिदेशक जगमोहन सहित कई अन्य उच्च अधिकारी व कर्मी होम क्वारंटीन हो गए थे। इसके बाद सुजीत बोस के साथ रहने वाले उनके सहयोगी तथा लगभग 80 कार्यकर्ताओं ने भी कोविड जांच करवाई, जिनमें सुजीत के एक सहायक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। सभी लोग होम क्वारंटीन हैं। इस बीच सुजीत बोस के पुत्र की रिपोर्ट पॉजिटिव आने से उनके शुभचिंतकों में चिन्ता की लहर दौड़ गयी। इस हफ्ते सुजीत औऱ उनके परिजनों का एक औऱ टेस्ट कराए जाने की संभावना है। 

पुरुलिया जिले में 11 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले

पश्चिम बंगाल के पुरुलिया जिले के पुरुलिया ब्लॉक-2 के एक गांव से दो तथा रघुनाथपुर ब्लॉक-1 के एक गांव से नौ कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई। इसके साथ ही अब पुरुलिया जिले में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 18 हो गयी है। इनमें तीन लोग क्रिटिकल वार्ड में रखे गए हैं। पुरुलिया-1 नंबर ब्लॉक के प्रखंड विकास पदाधिकारी दिव्यज्योति दास ने बताया कि सभी प्रवासी मजदूर महाराष्ट्र से आये हैं। इनमें पुरुलिया ब्लॉक-2 के दोनों मजदूर होम क्वारंटाइन, जबकि रघुनाथपुर प्रखंड के नौ मजदूर क्वारंटाइन सेंटर में रखे गए थे। यहीं से इनका सैंपल लेकर 19 मई को जांच के लिए भेजा गया था, जिसकी रिपोर्ट मंगलवार को आयी है।

उन्होंने बताया कि पुरुलिया ब्लॉक-2 के दोनों मरीजों में कोरोना के लक्षण नहीं मिले हैं लेकिन इनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। जिसके कारण इन्हें होम क्वारंटाइन किया गया है। जबकि रघुनाथपुर-1 ब्लॉक में मिले नौ प्रवासी मजदूरों को कोविड केयर सेंटर भेजा गया है। उन्होंने बताया कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों के गांव को बैरियर लगाकर कंटेनमेंट जोन बना दिया गया है।

इधर, मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर मंगलवार को पुरुलिया कोविड अस्पताल से आइसोलेशन वार्ड से पांच, क्वारंटाइन सेंटर से एक हजार 77 लोगों को छोड़ा गया। जबकि आइसोलेशन वार्ड में अभी 25 तथा क्वारंटाइन सेंटर में चार हजार 481 लोग रखे गये हैं। इसके अलावा होम क्वारंटाइन से एक हजार 772 लोगों को छोड़ा गया जबकि अभी भी होम क्वारंटाइन में 22 हजार 739 लोग हैं। अभी आठ हजार 856 लोगों की रिपोर्ट आने बाकी हैं।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस