राज्य ब्यूरो, कोलकाता। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व सांसद शशि थरूर ने विश्वास जताया कि कांग्रेस के खिलाफ बोलने वाले विपक्षी दल एक साथ आएंगे क्योंकि उन सबका लक्ष्य भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने का है। पूर्व केंद्रीय मंत्री थरूर ने सुशासन सप्ताह मनाने के केंद्र के फैसले पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार का मजाक उड़ाया और कहा कि सुशासन का सार पिछले सात वर्षों से गायब है क्योंकि नारों और प्रतीकवाद की राजनीति ने सुशासन की जगह ले ली है।

थरूर ने अपनी किताब ‘प्राइड, प्रेजुडिस एंड पंडित्री’ के विमोचन के दौरान आरोप लगाया, वर्तमान में देश में स्वतंत्र आवाजों का गला घोंटा जा रहा है। थरूर ने कहा, राजनीति में एक सप्ताह भी बहुत लंबा समय होता है। अगले लोकसभा चुनाव के लिए अब भी ढाई साल बाकी हैं। हमें उम्मीद है कि जो लोग अलग-अलग सुर में बोल रहे हैं वे भाजपा को हराने के लिए एक साथ आएंगे। लक्ष्य न केवल भाजपा को बल्कि उसकी नीतियों और राजनीति को भी हराना है। बता दें कि हालिया दिनों में तृणमूल कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों ने भाजपा के खिलाफ लड़ाई लड़ने में विफल रहने के लिए कांग्रेस पर हमला किया है। इसके मद्देनजर थरूर का यह बयान सामने आया है।

कांग्रेस के खिलाफ लगातार हमलावर है तृणमूल

बताते चलें कि बंगाल विधानसभा चुनाव के नतीजे के बाद से ही कांग्रेस और टीएमसी के बीच घमासान जारी है। चुनाव में प्रचंड जीत से उत्साहित तृणमूल कांग्रेस और पार्टी सुप्रीमो ममता बनर्जी लगातार कांग्रेस पर निशाना साधती रहीं हैं। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हाल में गोवा दौरे के दौरान भी कांग्रेस पर जमकर हमला बोला था। इससे पहले मुंबई दौरे के दौरान साफ कर दिया था कि अब यूपीए का कोई अस्तित्व नहीं है। इसके साथ ही टीएमसी के मुख पत्र ‘जागो बांग्ला’ में टीएमसी ने खुद को कांग्रेस के विकल्प के रूप में पेश करते हुए लिखा है कि टीएमसी ही असली कांग्रेस है। अपने मुखपत्र में यह बात कहकर तृणमूल कांग्रेस ने एक बार फिर कांग्रेस पार्टी पर निशाना साधा है।

कांग्रेस पार्टी को लेकर मुखपत्र में आरोप लगाया है कि वो अब युद्ध करते-करते थक चुकी है। इसी वजह से वो बिखर रही है और आंतरिक कलह से जूझ रही है। दावा किया गया है कि अब भाजपा के खिलाफ मुख्य विपक्षी पार्टी होने का तमगा टीएमसी ने ले लिया है। मुखपत्र में जिक्र किया गया है, कांग्रेस मुख्य विपक्षी पार्टी थी। हालांकि, वो भाजपा को रोकने में नाकाम रहे। कांग्रेस थक चुकी है और आंतरिक कलह से जूझ रही है। अब टीएमसी ने मुख्य विपक्षी पार्टी का तमगा ले लिया है और तृणमूल ही असली कांग्रेस है। 

Edited By: Priti Jha