कोलकाता, राज्य ब्यूरो। भारत और बांग्लादेश, दो पड़ोसी देशों में सांस्कृतिक, सामाजिक समानता हैं। दोनो ही देश के सीमा रक्षक बल के बीच काफी सौहार्दपूर्ण संबंध हैं। बांग्लादेश अपने "राष्ट्रपिता" बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान के जन्म शताब्दी समारोह "मुजीब बोरशो" मना रहा है, जो 17 मार्च, 2020 से 16 दिसंबर, 2021 तक मनाया जाएगा। बंगबंधु के सम्मान में भारत सरकार की ओर से भी कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

इसी क्रम में बांग्लादेश तथा बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश (बीजीबी) के साथ अपनी एकजुटता में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने 4,097 किलोमीटर लंबी भारत-बांग्लादेश बॉर्डर पर "मैत्री साइकिल रैली" का आयोजन किया, जो 10 जनवरी, 2021 को बीओपी पानीतर, 153वीं वाहिनी, बीएसएफ, क्षेत्रीय मुख्यालय कोलकाता, उत्तर 24 परगना, पश्चिम बंगाल से शुरू होकर 17 मार्च, 2021, को बीओपी सिल्कोर, 60वीं वाहिनी, मिजोरम में समाप्त हुई। इस साइकिल रैली में 13 साइकिल सवार (प्रतिभागियों) ने भाग लिया था।

यह रैली 66 दिनों में छह राज्यों पश्चिम बंगाल, असम, त्रिपुरा, मणिपुर, मेघालय और मिजोरम से 4,097 किलोमीटर की यात्रा करते हुए भारत-बांग्लादेश सीमा इलाके से होते हुए समाप्त हुई। इसके उपलक्ष्य में इस साइकिल रैली का समापन समारोह सेक्टर कोलकाता मुख्यालय में 25 मार्च, गुरुवार को मनाया गया। समारोह के मुख्य अतिथि बीएसएफ के पूर्वी कमांड के अतिरिक्त महानिदेशक (एडीजी) आइपीएस पंकज कुमार सिह थे। समारोह में दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के इंस्पेक्टर जनरल (आइजी) अश्वनी कुमार, डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल (सामान्य) सुरजीत सिंह गुलेरिया, सेक्टर कोलकाता के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल आइपीएस विकास कुमार सहित अन्य अधीनस्थ अधिकारी और जवा़न उपस्थित थे।

साइकिल रैली के प्रतिभागियों को बीएसएफ एडीजी ने दी शाबाशी

इस मौके बीएसएफ के पूर्वी कमान के एडीजी पंकज कुमार सिंह ने मैत्री साइकिल रैली के प्रतिभागियों को शाबाशी दी और उनके प्रयासों को सराहा। उन्होंने कहा कि मैत्री साइकिल रैली जो शुरू करने से पहले एक बहुत मुश्किल कार्य लग रहा था उसको हमारे बहादुर जवानों ने बहुत ही आसानी से पूरा कर लिया। उन्होंने कहा कि यह मैत्री साइकिल रैली भारत- बांग्लादेश और सीमा सुरक्षा बल और बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश के संबंधों को मजबूत करने मे महत्वपूर्ण कड़ी साबित होगी।

बीएसएफ आइजी ने भी की साइकिल दल की प्रशंसा

वहीं, बीएसएफ दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के आइजी अश्वनी कुमार ने भी इस मैत्री साइकिल रैली में भाग लेने वाले सभी प्रतिभागियों के उत्साह, समर्पण एवं साइकिल रैली के माध्यम से आपसी भाईचारे को बढ़ाने की पहल की तहे दिल से प्रशंसा की। साथ ही कहा कि भविष्य में भी इस तरह के मित्रता पूर्ण कार्यक्रम बिना किसी व्यवधान के सफलतापूर्वक आयोजित होते रहेंगे।

मैत्री साइकिल रैली के जरिए सीमा पर रहने वाले लोगों को किया गया जागरूक

बीएसएफ अधिकारियों ने बताया कि इस साइकिल रैली का उद्देश्य भारत- बांग्लादेश सीमा पर रहने वाले लोगों में सुरक्षा की भावना पैदा करना, सीमा सुरक्षा बल तथा बॉर्डर गार्ड बांग्लादेश में मित्रता बढ़ाना, सीमा पर अपराधों, नशाखोरी व पशु तस्करी को रोकने के लिए बॉर्डर पर रहने वाले लोगों में जागरूकता पैदा करना था। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप