जागरण संवाददाता, कोलकाता। करोड़ों रुपये के सारधा चिटफंड घोटाले में कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त राजीव कुमार की अग्रिम जमानत अर्जी पर सुनवाई पूरी हो गई है। सोमवार को कलकत्ता हाईकोर्ट में न्यायाधीश एस मुंशी और एस दासगुप्ता की खंडपीठ के समक्ष बंद कमरे में सीबीआइ के अधिवक्ता ने अपनी दलीलें पेश की। वहीं दलीलें पूरी होने के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया।

सूत्रों के मुताबिक, अदालत इस मामले पर मंगलवार को फैसला सुना सकता है। बता दें कि कुमार के वकीलों ने खंडपीठ के समक्ष गत गुरुवार को उनकी अग्रिम जमानत याचिका के पक्ष में अपनी दलीलें रखी थी। इसके बाद राजीव कुमार के वकील द्वारा दिए गए तर्क के जवाब में सीबीआइ ने अपनी दलीलें रखनी शुरू की, जो सोमवार को पूरी हुई।

उल्लेखनीय है कि इससे पहले 21 सितंबर को कुमार की अग्रिम जमानत याचिका को अलीपुर जिला और सत्र अदालत ने खारिज कर दिया था। सारधा चिटफंड घोटाले में सीबीआइ ने राजीव कुमार को एक गवाह के तौर पर पूछताछ के लिए हाजिर होने के लिए कई बार नोटिस दिया था लेकिन वह बार-बार व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए टालते रहे।

एडीजी (सीआइडी) व कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार को पिछले कई दिनों से लगातार सीबीआइ तलाश रही है लेकिन वे हाथ नहीं आ रहे हैं। बारासात व अलीपुर कोर्ट से राहत नहीं मिलने के बाद अब गिरफ्तारी से पति राजीव कुमार बचाने के लिए पत्नी ने कलकत्ता हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत के लिए याचिका दायर की थी।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप