राज्य ब्यूरो, कोलकाता। किसी की धमकी से डरती नहीं हूं, सिर ऊंचा कर के चलती हूं। दिल्ली हो या फिर कोलकाता। जहां भी मौका मिलता है मुख्यमंत्री ममता बनर्जी केंद्र की मोदी सरकार व भाजपा को हमला करना नहीं भूलतीं। शनिवार को महानगर के नजरूल मंच में बंगविभूषण व बंग भूषण सम्मान समारोह के मंच से भी ममता ने मोदी का नाम लिए बिना हल्ला बोल जारी रखा।

वहीं, सम्मान समारोह में आमंत्रित विशिष्टजनों व लोगों को भी संदेश दिया कि सरकार की कहीं गलती दिखती है तो वह जरूर आलोचना करें। उन्हें भूल सुधारने के लिए अपना सुझाव ही दें, लेकिन सरकार को गलत ने समझें। उनकी सरकार जनता की सेवा के लिए हैं। ममता ने कहा कि बंगाल की संस्कृति सबको साथ लेकर चलने की है। बंगाल ही विश्व को पथ दिखा सकता है।

बंगाल की सत्ता पर काबिज होने के बाद से ममता हर वर्ष 20 मई को राज्य के विशिष्टजनों को सम्मानित करती आ रही है। शनिवार को नजरूल मंच में विभिन्न क्षेत्रों के विशिष्ट व्यक्तियों को बंग विभूषण और बंग भूषण से सम्मानित की। उन्होंने इस मौके पर तृणमूल कांग्रेस सरकार के छह वर्ष पूरे होने का उल्लेख किया और कहा कि आज का दिन उनके लिए ऐतिहासिक है। आज ही के दिन 20 मई 2011 को उन्होंने पूर्ण बहुमत से जीत कर मुख्यमंत्री की शपथ ली थी। उसी वर्ष से उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में बेहतर कार्य करने वाले लोगों को बंग विभूषण और बंग भूषण सम्मान प्रदान करने की शुरुआत की।

उन्होंने कहा किसी भी क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को दिया जाने वाले यह राज्य का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है। इसके तहत किसको कितनी राशि मिलती है यह बड़ी बात नहीं है बल्कि बड़ा महत्व सम्मान का है। बंगाल के प्रख्यात अभिनेता उत्तम कुमार हमारे बीच नहीं है, लेकिन उनके साथ अभिनय की शुरुआत करनेवाले सौमित्र चटर्जी आज भी फिल्मों में योगदान कर रहे हैं। उन्हें बंग विभूषण से सम्मानित कर वह गर्वान्वित महसूस कर रही हैं। इसी तरह साहित्य, कला, उद्योग और खेल क्षेत्र के विशिष्ट व्यक्तियों को सम्मानित कर उन्हें खुशी हुई।

यह भी पढ़ेंः पूर्व विधायक के बेटे की कार से चार लोगों की मौत

पश्चिम बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस