कोलकाता,एएनआई। नेपाल में चढ़ायी अभियान के दौरान एक भारतीय सैनिक समेत दो भारतीय पर्वतारोहियों की मौत हो गयी, जबकि एक अन्य लापता है। हालांकि अभियान में शामिल एक पर्वतारोही ने सफलतापूर्वक दुनिया की सबसे ऊंची एवरेस्ट चोटी को फतह कर लिया था। अभियान के आयोजक ने यह जानकारी दी। कुछ दिन पहले ही देश के दो पर्वतारोहियों की हिमालयी देश में मौत हो गयी थी।

सेना के जवान रवि ठक्कर शुक्रवार सुबह एवरेस्ट पर 'कैम्प-4' के अंदर मृत पाये गये, जबकि नारायण सिंह की मौत बृहस्पतिवार रात को 8,485 मीटर ऊंचे मकालू पर्वत शिखर से नीचे उतरने के दौरान 'कैम्प-4' में हुई। मिंगमा शेरपा के अनुसार कोलकाता के दीपांकर घोष (52) मकालू पर्वत शिखर से लौटते वक्त 'कैम्प-4' के ऊपर लापता हो गये हैं। शेरपा ने बताया कि एक खोजी दल उस जगह पर पहुंचा, जहां से पर्वतारोही के लापता होने की आशंका थी। 

कोलकाता के पर्वतारोही दीपंकर घोष नेपाल में माउंट मकालू के एक हाई कैंप से लापता हो गए हैं। नेपाल स्थित दुनिया के पांचवें सर्वोच्च पर्वत शिखर पर चढ़ायी के अभियान के दौरान मकालू पर्वत शिखर से नीचे उतरते समय भारतीय पर्वतारोही दीपंकर घोष लापता हो गए हैं। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। कुछ दिन पहले ही देश के दो पर्वतारोहियों की हिमालयी देश में मौत हो गयी थी। यह कैंप मकालू पर्वत पर स्थित है। ऊंचाई से संबंधित व्याधियों के कारण पश्चिम बंगाल से दो भारतीय पर्वतारोही बिप्लब वैद्य (48) और कुंतल करार (46) की कंचनजंघा शिखर पर्वत के पास बुधवार को नेपाल में मौत हो गयी।

कंचनजंघा शिखर पर्वत दुनिया की तीसरी सबसे ऊंची चोटी है। बुधवार शाम से ही चिली का एक पर्वतारोही भी कंचनजंघा पर्वत के कैम्प-4 से लापता है। मकालू दुनिया का पांचवां सबसे ऊंची चोटी वाला पर्वत है। इस दौरान एक पर्वतारोही दीपंकर घोष लापता बताए जा रहे हैं जो कोलकाता के रहने वाले हैं।

यह एवरेस्ट पर्वत के 19 किलोमीटर दक्षिणपूर्व महालंगूर हिमालय पर्वतमाला में नेपाल और चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के बीच सीमा पर स्थित है। मार्च से जून के अंत तक सैकड़ों पर्वतारोही दुनिया के सबसे ऊंचे पर्वत हिमालय की चोटी पर चढ़ाई के लिये नेपाल आते हैं।

बता दें कि 21 मई, साल 2014 को हावड़ा की महिला पर्वतारोही छंदा गायन ऐसे ही एक अभियान में गई थीं। यहां उन्होंने अपने अभियान को पूरा कर लिया था। हालांकि वापस लौटने के क्रम में वह लापता हो गईं। उनके साथ दो शेरपा का भी आजतक कोई सुराग नहीं मिला। इस घटना ने एक बार फिर से लगभग पांच साल पूर्व की इस घटना को ताजा कर दिया है। 

कंचनजंगा की चोटी लांघने निकला हावड़ा के पर्वतारोही की मौत

जानकारी के अनुसार विश्व की तीसरी सबसे ऊंची पर्वत की चोटी, कंचनजंगा को फतह करने गए बंगाल के दो पर्वतारोहियों की मौत हो गई है। इनमें एक कोलकाता व दूसरा हावड़ा का है। इनके नाम क्रमश: विप्लब वैद्य (48) व कुंतल कांड़ार (46) है। मिली जानकारी के अनुसार अभियान के दौरान अचानक बिगड़ी तबीयत के बाद कुंतल ने दम तोड़ दिया। पहाड़ की चोटी के महज 20 मीटर दूर रहते ही वह अस्वस्थ पड़ गया। कुंतल की मौत ने हावड़ा की महिला पर्वतारोही छंदा गायन की एक बार फिर से याद ताजा कर दी है।

करीब पांच साल पहले ऐसे ही एक अभियान में छंदा गायन अपने दो शेरपा के साथ लापता हो गई थीं, जिनका आजतक कोई सुराग नहीं मिला। गुरुवार की सुबह कुंतल की मौत की खबर मिलने के बाद परिवार समेत पूरे इलाके में शोक की लहर दौड़ गई। हावड़ा के बेंटरा थाना स्थित कांडारपुकुरलेन लेन में कुंतल का परिवार रहता है। परिवार में माता-पिता, भैया और भाभी हैं। आठ अप्रैल को कुंतल पांच पर्वतारोहियों के एक समूह के साथ कंचनजंगा के लिए रवाना हुआ था। नेपाल के पर्यटन मंत्रालय के अधिकारी ने बताया कि बिप्लब बैद्य (48) और कुंतल करार (46) की मौत बुधवार रात कैंप-4 से ऊपर के हिस्से में हुई। दोनों हाइपोथर्मिया और स्नोब्लाइंडनेस का शिकार हो गए थे। अधिक ऊंचाई पर बने दबाव के कारण कुछ लोगों को इस तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

अधिकारी ने बताया, बिप्लब ने चढ़ाई सफलतापूर्वक पूरी कर ली थी, वहीं कुंतल रास्ते में ही बीमार हो गया था। दोनों की मौत नीचे उतरने के दौरान हुई। साथी पर्वतारोहियों ने बताया कि दोनों को 8,400 मीटर की ऊंचाई से नीचे कैंप-4 पर लाया जा रहा था। उन्हें प्राथमिक चिकित्सा देने की कोशिश की गई, लेकिन कोई लाभ नहीं हुआ।कहा जाता है कि हिमालय की आठ हजारी चोटियों में कंचनजंगा बेहद जटिल व दुर्गम चोटी में एक है।

साल 2014 में छंदा हुई थीं लापता

बता दें कि 21 मई, साल 2014 को हावड़ा की महिला पर्वतारोही छंदा गायन ऐसे ही एक अभियान में गई थीं। यहां उन्होंने अपने अभियान को पूरा कर लिया था। हालांकि वापस लौटने के क्रम में वह लापता हो गईं। उनके साथ दो शेरपा का भी आजतक कोई सुराग नहीं मिला। इस घटना ने एक बार फिर से लगभग पांच साल पूर्व की इस घटना को ताजा कर दिया है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप