राज्य ब्यूरो, कोलकाताः बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बुधवार को कहा कि मुख्य सचिव हरिकृष्ण द्विवेदी और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) मनोज मालवीय ने तीन दिनों में उनके साथ दो निर्धारित बैठकों में शामिल नहीं होकर एक संवैधानिक चूक की है। धनखड़ का बयान तब आया जब राज्य के दो शीर्ष अधिकारी उनके द्वारा बुलाई गई बैठक में शामिल नहीं हुए।

राज्यपाल पुलिस अधिकारियों से यह जानना चाहते थे कि भाजपा के नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी को पिछले सप्ताह झाड़ग्राम जिले के नेताई जाने से पुलिस ने क्यों रोका था जबकि कलकत्ता उच्च न्यायालय ने आदेश जारी किया था उन्हें किसी कार्यक्रम में भाग लेने से नहीं रोका जाना चाहिए। धनखड़ ने ट्वीट किया- 3 दिनों में दूसरी बार शीर्ष अधिकारियों द्वारा कार्रवाई योग्य असंगत संवैधानिक चूक।

उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों अधिकारियों ने न केवल शीर्ष सेवाओं की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया बल्कि एक बैठक के लिए उनके बार-बार कहने के बावजूद लोकतंत्र के सार का भी उल्लंघन किया। उन्होंने कहा, सीएस, ममता आफिसियल, पश्चिम बंगाल पुलिस के ट्वीटर अकाउंट को टैग करते आचरण प्रतिक्रिया की कमी और गवर्नर के निर्देशों की आदतन अवहेलना से बढ़ा है। संविधान और लोकतांत्रिक मूल्यों की सर्वोच्चता को बनाए रखने के बजाय इन अधिकारियों (आएएस व आइपीएस एसोसिएशन) ने लोकतंत्र के सार का उल्लंघन किया है। धनखड़ ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करेंगे कि मुख्य सचिव और डीजीपी संवैधानिक खांचे में आ जाएं।

Edited By: Vijay Kumar