कोलकाता, राज्य ब्यूरो। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के दक्षिण बंगाल फ्रंटियर के जवानों ने बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में भारत- बांग्लादेश सीमा के पास नशीले पदार्थों की तस्करी को नाकाम करते हुए 4000 पीस याबा टैबलेट (एक प्रकार का ड्रग्स) के साथ महिला तस्कर को गिरफ्तार किया है। जब्त याबा टैबलेट का अनुमानित मूल्य लगभग 20 लाख रुपये है।

मुर्शिदाबाद जिले के राजानगर सीमा चौकी इलाके से होकर शनिवार को बांग्लादेश में इसकी तस्करी की कोशिश की जा रही थी तभी 117वीं बटालियन बीएसएफ के जवानों ने महिला को रंगे हाथों पकड़ा। खाने के डिब्बे में याबा को छिपा कर रखा गया था। पूछताछ में महिला तस्कर ने अपना नाम बसंती मंडल (33) बताया। वह मुर्शिदाबाद के रानीनगर थाना अंतर्गत बारोविधा गांव की रहने वाली है। पूछताछ में उसने इलाके के कई अन्य तस्करों के नाम भी उजागर किए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि शनिवार सुबह करीब 10 बजे बीएसएफ के इंटेलिजेंस ब्रांच ने सूचना दी कि राजानगर सीमा चौकी इलाके में कुछ तस्कर याबा टैबलेट की तस्करी के लिए छिपे हैं औ मौका मिलते ही इसे सीमा पार कराने का प्रयास करेंगे।खबर मिलते ही कंपनी कमांडर ने तुरंत तस्करों पर नजर रखने के लिए बार्डर पर तैनात जवानों को अलर्ट कर दिया।

लगभग 11 बजे ऑब्जरवेशन पॉइंट (ओपी) नंबर 7 पर चेकिंग के दौरान एक महिला के पास से 20 पैकेट याबा टैबलेट बरामद किया गया। यह पैकेट खाने के डिब्बे में छिपा कर रखा गया था। इन पैकेटों से 4000 पीस याबा टैबलेट मिला।

महिला से पूछताछ में पता चला कि यह खेप उसे ज्योतिष मंडल, ग्राम- बारोविधा, थाना- रानीनगर जिला- मुर्शिदाबाद ने दी थी और इस टैबलेट को सीमा पार ले जाने के लिए उसने 5,000 रुपये देने का वादा किया था। बांग्लादेश पहुंचने पर यह सामान राजशाही जिले के रहने वाले सैदुल शेख नाम के व्यक्ति को देना था। लेकिन जवानों द्वारा दिखाई गई तत्परता के कारण 4000 याबा टैबलेट के साथ महिला को पहले ही पकड़ लिया गया। बीएसएफ ने आगे की कानूनी कार्रवाई के लिए गिरफ्तार महिला तस्कर को जब्त याबा टैबलेट के साथ रानीनगर थाने को सौंप दिया है। इधर, बीएसएफ अधिकारियों को इस पूरे प्रकरण की छानबीन करने के पश्चात ड्रग्स तस्करी नेटवर्क में शामिल अन्य तस्करों के भी पकड़े जाने की उम्मीद है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप