राज्य ब्यूरो, कोलकाता। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले से दो बांग्लादेशी युवतियों को गैरकानूनी तरीके से अंतरराष्ट्रीय सीमा पार करते गिरफ्तार किया है। अधिकारियों के अनुसार, दोस्ती, प्यार और धोखा की शिकार हुई दोनों युवतियां भारत से वापस बंग्लादेश जाने की कोशिश कर रही थीं, तभी 99वीं वाहिनी की सीमा चौकी जीतपुर के इलाके से छह-सात अगस्त की मध्य रात्रि को जवानों ने उन्हें हिरासत में लिया। बीएसएफ की ओर से एक बयान में बताया गया कि इनमें 22 वर्षीय रीना अख्तर (काल्पनिक नाम) बांग्लादेश के नरसिंहडी जिले जबकि 20 वर्षीय अरीना खान (काल्पनिक नाम) ढाका जिले की रहने वाली है। ‌

दोस्त के कहने पर आई थी भारत, दोस्त ने ही धकेला देह व्यापार में

प्रारंभिक पूछताछ में दोनों युवतियों ने बीएसएफ को बताया कि वे बांग्लादेश की रहने वाली हैं। आगे रीना अख्तर ने बताया अबीर नाम के लड़के से उसकी मोबाइल पर दोस्ती हुई थी, जिसके कहने पर वह एक साल पहले भारत आई थी। अबीर उसे दिल्ली लेकर गया और वहां एक घर में बंदी बनाकर प्रतिदिन देह व्यापार का काम कराने लगा। उसने अबीर को किसी तरह से चकमा देकर मौका मिलते ही वहां से भाग आई। वह एक अनजान भारतीय दलाल की मदद से वापस बंग्लादेश जा रही थी।

दोस्त के इरादे नहीं थे नेक, मौका मिलते ही भागी

वहीं, एक अन्य युवती अरीना खान ने बताया कि वह हृदय नाम के बंग्लादेशी दोस्त के साथ 20 दिन पहले भारत आई थी। हृदय उसे दिल्ली लेकर गया और वहां उसकी इच्छा के विरूद्ध हृदय ने उसके साथ जबरन शारीरिक संबंध बनाए। आगे उसने बताया की हृदय भी दलाल के साथ उसका सौदा करने वाला था कि मौका देख कर वह वहां से भागने में कामयाब हो गई। सियालदह में उसकी मुलाकात रीना अख्तर से हुईं और वो दोनो अनजान भारतीय दलाल की मदद से वापस बंग्लादेश जा रही थी। उसने भी सीमा पार कराने के लिए दलाल को 1,000 रुपये दिए थे। बीएसएफ ने आगे की कानूनी कार्यवाही हेतु गिरफ्तार दोनों युवतियों को पुलिस स्टेशन बागदाह को सौप दिया है।

भोली- भाली लड़कियों को शिकार बनाते हैं दलाल : बीएसएफ

इधर, 99वीं वाहिनी बीएसएफ के कमांडेंट रवि कांत ने बताया कि भारत- बांग्लादेश सीमा पर मानव तस्करी जैसे जधन्य अपराध को रोकने के लिए सीमा सुरक्षा बल कड़े कदम उठा रही हैं। जिनमें से कुछ लोग और दलाल पकड़े जा रहे है। जिनसे पूछताछ में सामने आया है कि बांग्लादेश की गरीब और भोली भाली लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाकर उन्हें भारत में काम दिलाने के बहाने ले आकर उन्हें देह व्यापार की दलदल में धकेल दिया जाता है। एक बार इस दलदल में फंसने के बाद जीवन तबाह हो जाता है।

उन्होंने बताया कि ऐसे अपराधी पर कड़ी लगाम लगाने के लिए ही बीएसएफ ने एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिटों को भारत-बांग्लादेश सीमा के संवेदनशील स्थानों पर तैनात किया है जो दिन- रात भोली भाली लड़कियों के भविष्य को बचाने में लगी हुई है। 

Edited By: Priti Jha