- तालाब को गहरा करने के लिए मिंट्टी खुदाई के दौरान मिले बम

-कीमती सामान समझ बमों को उठा ले गया जीसीबी मशीन का चालक

-भारतीय सेना का बम निरोधी दस्ता करेगी की जांच

संवाद सूत्र, बैरकपुर : बंगाल के नदिया जिले से द्वितीय विश्व युद्ध के समय के दो बम मिले हैं। नदिया जिले के हांसखाली थाना के छोटा चुपरिया इलाके में तालाब को गहरा करते समय मिंट्टी की खुदाई के दौरान दो बम मिले हैं। विशालकाय रॉकेट के आकार के इन बमों की लंबाई लगभग 6 फीट है, जबकि उसका वजन एक हजार पाउंड (प्रत्येक का 100 किलो) बताया गया है। फिलहाल स्थानीय पुलिस प्रशासन ने बमों को अपने कब्जे में ले लिया है। इसकी जांच सेना के अधिकारियों द्वारा कराई जाएगी।

बता दें कि हांसखाली थाना के छोटा चापुरिया इलाके में तालाब को गहरा करने के लिए मिंट्टी खुदाई का कार्य बीते कई दिनों से चल रहा था। सोमवार को तालाब की गहराई बढ़ाने के लिए जेसीबी मशीन से मिंट्टी काटने का काम चल रहा था। मिंट्टी की कटाई के दौरान जेसीबी मशीन के चालक को मिंट्टी में कुछ अज्ञात व ठोस किस्म के वस्तु होने का आभास हुआ। जांच करने पर लंबे आकार के दो अज्ञात वस्तु मिले। हालांकि इन वस्तुओं के बम होने की जानकारी से बेखबर जेसीबी चालक, उसे कीमती वस्तु समझकर अपने घर लेकर चला गया। इधर इस बात की जानकारी स्थानीय थाने को लग गई। तुरंत कार्रवाई करते हुए उक्त दोनों बमों को पुलिस ने जब्त कर अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस सूत्रों के अनुसार उक्त दोनों बम द्वितीय विश्व युद्ध के समय के हैं। प्राथमिक अनुमान के अनुसार इन बमों को द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान इस्तेमाल किया गया था। हालांकि इसकी संपूर्ण जांच व बम से कोई खतरा है या नहीं इसका पता लगाने के लिए सेना की मदद ली गई। सेना के बम निरोधक दस्ते को इसकी सूचना दे दी गई है और सेना की ओर से दस्ता को नदिया भेजा जाएगा। फिलहाल उसे आबादी वाले स्थान से दूर कड़ी सुरक्षा में रखा गया है।

Posted By: Jagran