कोलकाता, जेएनएन। त्रिपुरा में भाजपा की शानदार जीत से पश्चिम बंगाल में भाजपा कर्मी उत्साहित हैं। सुबह से भाजपा के पार्टी कार्यालय में उत्साह का माहौल है। भाजपा कार्यकर्ता एक दूसरे को गुलाल लगा रहे हैं। भाजपा की ओर से कहा गया है त्रिपुरा में भाजपा की शानदार जीत का असर पश्चिम बंगाल में भी दिखेगा। 

भाजपा जहां त्रिपुरा में खाता भी नहीं खोल पाती थी, वो आज बहुमत की ओर अग्रसर है। कई लोगों के योगदान के बाद आज त्रिपुरा में भाजपा की मजबूत स्थिति देखने को मिली है। देवधर लंबे समय से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक रहे हैं और वे बांग्‍ला भाषा भी जानते हैं। भाजपा आलाकमान ने देवधर को नॉर्थ ईस्ट की जिम्मेदारी सौंपी थी। यहां रहते हुए उन्होंने स्थानीय भाषाएं सीखीं जिससे की वे यहां की जनता से सीधे जुड़ सकें। मेघालय, त्रिपुरा, नागालैंड में खासी और गारो जैसी जनजाति के लोगों से वे उनकी ही भाषा में बात करते हैं। भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह ने सुनील देवधर को नवंबर 2014 में त्रिपुरा का प्रभारी बनाया था। तब से ही वे इस मिशन में लगे हुए हैं।

 देवधर ने त्रिपुरा में भाजपा के लिए शून्य से शुरुआत की थी। देवधर मुट्ठीभर कार्यकर्ताओं के साथ त्रिपुरा आए थे। प्रभारी बनाए जाने के बाद देवधर महीने का 15 दिन यहीं बिताते थे। इस दौरान वे लोगों से मिलते थे। लोगों की समस्याओं को सुनते थे। उन्‍होंने बताया, ''हमने यहां की स्‍थानीय समस्‍याओं से काम शुरू किया जैसे पानी की कमी, बिजली, सड़क, चिकित्‍सकों का अभाव, स्‍कूल में शिक्षक आदि। इससे हमें स्‍थानीय लोगों का समर्थन हासिल हुआ।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस