कोलकाता (जागरण संवाददाता)। लोकसभा चुनाव के नतीजे सामने आने के बाद भी पश्चिम बंगाल में राजनीतिक हिंसा का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रही है। राज्य के कई शहरों में हिंसक वारदात हो रही हैं। इसमें एक भाजपा समर्थक की हत्या कर दी गई, जबकि दर्जनों लोग घायल हो चुके हैं। भाजपा ने तृणमूल समर्थकों पर हिंसा का आरोप लगाते हुए कहा कि वह जवाब देने के लिए 'जैसे को तैसा' वाली नीति अपनाएंगे। उधर, तृणमूल ने भाजपा पर जगह-जगह पार्टी कार्यालयों में तोड़फोड़ व कब्जा करने और कार्यकर्ताओं पर हमले का आरोप लगाया है।

नादिया जिले में चकदह में शुक्रवार रात अज्ञात हमलावरों ने गोली मारकर संतू घोष की हत्या कर दी। जानकारी के मुताबिक संतू रात के करीब नौ बजे घर लौटा था। उसे कुछ युवक घर से बुलाकर ले गए और एक मैदान में ले जाकर गोली मार दी और फरार हो गए।

संतू को अपना समर्थक बताते हुए भाजपा ने शनिवार को ट्रेनें रोककर विरोध-प्रदर्शन किया। भाजपा का कहना है कि संतू कुछ दिन पहले ही तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल हुआ था। भाजपा नेताओं ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के इशारे पर हत्या करवाने का आरोप लगाया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों को शांति बनाए रखने की अपील की है।

तृणमूल को उसी की भाषा में देंगे जवाब : दिलीप घोष
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने तृणमूल कार्यकर्ताओं पर हिंसा फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा कि तृणमूल के गुंडे विपक्ष के नेताओं और उम्मीदवारों पर लगातार हमला कर रहे हैं। ममता बनर्जी की पार्टी हार स्वीकार नहीं कर पा रही है। उन्हें नतीजों को सही भावना के साथ देखना चाहिए। अगर तृणमूल हिंसा को धमकाने के लिए इस्तेमाल कर रही है और हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला जारी रखती है तो हम भी उसी भाषा में जवाब देंगे।

कांकीनाड़ा, नैहट्टी व बीजपुर में अब भी अशांति
बैरकपुर लोकसभा सीट के अंतर्गत कांकीनाड़ा, नैहट्टी और बीजपुर इलाकों में अब भी हिंसा जारी है। शुक्रवार रात व शनिवार को कांकीनाड़ा और बीजपुर में भाजपा-तृणमूल समर्थकों के बीच मारपीट हुई। भाटपाड़ा विधानसभा क्षेत्र के कई इलाकों में दुकानों में तोड़फोड़ की गई। वहीं बीजपुर में तृणमूल कार्यालय पर भाजपाईयों ने कब्जा कर लिया। उसे हरे रंग के बदले भगवा रंग से रंग दिया गया।

सिताई में 10 भाजपाई गिरफ्तार
कूचबिहार लोकसभा सीट पर भाजपा की बड़ी जीत के बाद से ही हिंसा का दौर जारी है। गुरुवार और शुक्रवार को भाजपा-तृणमूल समर्थकों में जमकर मारपीट हुई। रात में तृणमूल के एक कार्यालय में आग लगा दी गई। तृणमूल नेताओं का आरोप है कि हजारों की संख्या में आए भाजपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय में आग लगाई है। उधर, जांच में उतरी पुलिस ने संदेह के आधार पर 10 भाजपाईयों को गिरफ्तार किया है।

नवद्वीप में तृणमूल कार्यालय में तोड़फोड़
नदिया जिले के नवद्वीप ब्लॉक के बाबलारी ग्राम पंचायत के प्राणगोपाल नगर स्थित 37 नंबर बूथ तृणमूल कार्यालय में शुक्रवार रात तोड़फोड़ की गई। तृणमूल ने घटना के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया जबकि भाजपा ने इसे तृणमूल का अंदरुनी कलह करार दिया।

पश्चिम मेदिनीपुर में भी अशांति
मतगणना के बाद पश्चिम मेदिनीपुर जिले में भी राजनीतिक अशांति जारी है। शनिवार सुबह शालबनी 10 नंबर अंचल बालीझूरी में तृणमूल कार्यकर्ताओं व समर्थकों से मारपीट और उनके घरों में तोड़फोड़ की गई। आरोप है कि तृणमूल समर्थक होने के कारण ही भाजपाईयों ने हमला किया है। उधर, गड़बेता के जवा इलाके में तृणमूल-माकपा समर्थकों के बीच संघर्ष का मामला प्रकाश में आया है। इसमें चार तृणमूल समर्थक घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप