राज्य ब्यूरो, कोलकाता : भाजपा के टिकट पर चुनाव जीतकर हाल में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हुए मुकुल राय को बंगाल विधानसभा की लोक लेखा समिति (पीएसी) का अध्यक्ष बनाए जाने से भगवा दल खफा है। इसके खिलाफ विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी के नेतृत्व में भाजपा विधायकों के एक प्रतिनिधिदल ने मंगलवार को राज्यपाल जगदीप धनखड़ से शिकायत की और उन्हें ज्ञापन सौपा। भाजपा विधायकों ने राज्यपाल को पीएसी अध्यक्ष की नियुक्ति में हुए भेदभाव से अवगत कराया।

राज्यपाल से मुलाकात के बाद सुवेंदु अधिकारी ने घोषणा की कि विधानसभा के अंदर और बाहर जनतंत्र का गला घोंटने के खिलाफ भाजपा का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति और लोकसभा अध्यक्ष को भी ज्ञापन सौंपेगा। उन्होंने मुकुल की पीएसी अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति पर सवाल उठाते हुए इसे अनैतिक कदम बताया। सुवेंदु ने साथ ही कहा कि 2017 से तृणमूल सरकार ने विधानसभा में सीएजी रिपोर्ट प्रस्तुत नहीं की है। उन्होंने कहा कि 2020 में कोविड उपकरण की खरीद में भी 20,000 करोड रुपये से अधिक के हुए घोटाले की रिपोर्ट भी राज्य सरकार प्रस्तुत नहीं कर पाई है।

बता दें कि मुकुल राय को पीएसी अध्यक्ष बनाए जाने के विरोध में भाजपा विधायकों ने इस दिन विधानसभा की सभी आठ कमेटियों से भी इस्तीफा दे दिया। बंगाल विधानसभा में भाजपा के उपनेता मनोज टिग्गा के नेतृत्व में विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष विमान बनर्जी से मुलाकात कर इस्तीफा दिया है। भाजपा से टीएमसी में शामिल हुए विधायक मुकुल राय को हाल में विधानसभा में पीएसी का अध्यक्ष बनाया गया है। पीएसी के अध्यक्ष सरकार के लेखा और वित्त मामलों को देखते हैं और उसकी जांच करते है। परंपरा के अनुसार, यह पद विरोधी दल के पास होता है, लेकिन मुकुल राय के टीएमसी में शामिल होने के बावजूद उन्हें यह पद दिया गया है।

Edited By: Vijay Kumar