राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल की खाड़ी में उत्पन्न हुए निम्न दबाव के प्रभाव से हो रही भारी बारिश के कारण सूबे के छह जिलों में अब तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 2.5 लाख लोग बेघर हुए हैं। ये मौतें बारिश की वजह से दीवार ढहने, बिजली का झटका लगने और बाढ़ के पानी में बहने से हुई हैं। पूर्व व पश्चिम बर्द्धमान, पश्चिम मेदिनीपुर, हुगली, हावड़ा और दक्षिण 24 परगना जिलों के विभिन्न स्थानों पर बाढ़ के हालात हैं।

राज्य प्रशासन की ओर से उन जगहों पर राहत शिविर खोले गए हैं। अब तक एक लाख से अधिक तिरपाल, एक हजार मैट्रिक टन चावल, पेयजल के पाउच और कपड़े प्रभावितों में वितरित किए गए हैं। हुगली में बचाव व राहत कार्यों में सेना की मदद ली गई थी। इस बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बुधवार को हावड़ा और हुगली जिलों के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हेलीकॉप्टर से दौरा कर हालात का मुआयना करेंगी।

इस बाबत हुगली जिले के खानाकुल में अस्थायी हेलीपैड तैयार किया जा रहा है। भारी बारिश के कारण बांधों पर जल का दबाव काफी बढा़ था, जिसके कारण मैथन, पंचेत और दुर्गापुर बैरेज से काफी पानी छोड़ा गया था। इस वजह से हुगली के खानाकुल और जंगीपाड़ा और हावड़ा के उदयनारायणपुर और आमता के विभिन्न इलाके जलमग्न हो गए हैं।

पश्चिम मेदिनीपुर जिले का घाटाल शहर पानी में डूब गया है। वहां जल प्लावन में तीन लोगों की मौत हो चुकी है। केसपुर में भी पानी में डूबने से एक की मौत हुई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक डीवीसी से एक लाख 30 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया था, जिससे हावड़ा जिले का उदयनारायणपुर डूब गया। आमता-चापाडांगा रोड का अधिकांश हिस्सा भी जलमग्न है। दुर्गापुर बैरेज से भी 1,55, 775 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था।

Edited By: Vijay Kumar