राज्य ब्यूरो, कोलकाताः राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने बंगाल के दो बाढ़ प्रभावित जिलों पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर में नौ टीमों को तैनात किया है। एनडीआरएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि दोनों जिलों में तैनात टीमों को बचाव अभियान के लिए जेमिनी बोट और आवश्यक सामान जैसे सभी आवश्यक उपकरणों के साथ तैनात किया गया है।

अधिकारी के मुताबिक हुगली, न्यू जलपाईगुड़ी, उत्तर और दक्षिण 24 परगना, कोलकाता और सिलीगुड़ी सहित राज्य के विभिन्न स्थानों पर 10 टीमें वर्तमान में स्टैंडबाय पर हैं। पूर्व और पश्चिम मेदिनीपुर में हजारों लोग बेघर हो गए हैं क्योंकि भारी बारिश के बाद दोनों जिलों के बड़े इलाके में पानी भर गया है। बंगाल प्रशासन के एक सूत्र ने बताया कि पश्चिम मेदिनीपुर में सबांग क्षेत्र सबसे बुरी तरह प्रभावित हुआ और बुधवार रात से छह स्थानों पर केलेघई और कपालेश्वरी नदियों के तटबंधों के टूटने के बाद बाढ़ का कहर देखा जा रहा है।

चूंकि दोनों जिलों में पिछले दो दिनों में 400 मिमी से अधिक बारिश हुई है, इससे कम से कम पांच नदियां खतरे के निशान को पार कर गई हैं और कई तटबंधों को तोड़ दिया है। दोनों मेदिनीपुर, हुगली को पिछले माह भी बाढ़ का सामना करना पड़ा था। बंगाल सरकार घटाल मास्टर प्लान के लिए केंद्रीय सहायता की मांग करती रही है।

31 अगस्त को, राज्य सरकार की एक टीम ने केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत और नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार से कम से कम चार परियोजनाओं को लागू करने के लिए फंड की मांग की। घटाल उप-मंडल बंगाल के बाढ़ संभावित क्षेत्रों में से एक है और बाढ़ के खतरों के प्रति बहुत संवेदनशील है। सिलाबटी नदी के महत्वपूर्ण जल निकासी पैटर्न और मानसूनी जलवायु में उतार-चढ़ाव घटल ब्लाक में बाढ़ के मुख्य कारण हैं, जिससे हर साल भारी नुकसान होता है।

Edited By: Vijay Kumar