जागरण संवाददाता, कोलकाता : केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस छोड़ने वाले मुकुल राय के संगठनात्मक क्षमता की प्रसंशा की। हालांकि मुकुल के भाजपा में शामिल होने के सवाल को वे टाल गए और कहा कि इस पर शीर्ष नेतृत्व फैसला लेगा। वे इस दिन राज्य भाजपा के वरिष्ठ नेता व संयुक्त महासचिव (संगठन) शिव प्रकाश के नेतृत्व में पार्टी मुख्यालय में आयोजित बैठक में भाग लेने पहुंचे थे। इस दौरान पत्रकारों के सवाल का जवाब देते हुए बाबुल ने कहा कि मुकुल को पार्टी में शामिल करने या नहीं करने का निर्णय पार्टी आलाकमान द्वारा लिया जाएगा, मुझे इस बारे में अधिक जानकारी नहीं है, मैं बस इतना ही कहना चाहूंगा कि मुकुल राय में संगठनात्मक क्षमता है।

उल्लेखनीय है कि राजनीतिक गलियारे में इस बात की चर्चा है कि मुकुल राय संभवत: भाजपा में शामिल हो सकते हैं। इस संदर्भ में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने बीते दिनों कहा था कि उनके पास इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है। हालाकि, उन्होंने यह स्वीकार किया था कि राय पार्टी के दिल्ली नेतृत्व के संपर्क में हैं। भाजपा सूत्रों के मुताबिक यद्यपि इस दिन की बैठक केवल पार्टी की संगठनात्मक पहलुओं को लेकर आयोजित की गई थी लेकिन बैठक में मुकुल का मुद्दा भी उठा। गौरतलब है कि तृणमूल काग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी के करीबी रहे मुकुल ने 25 सितंबर को कहा था कि वे दुर्गापूजा के बाद आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे। पार्टी ने उन्हें छह साल के निलंबित कर दिया है और मुकुल अगले सप्ताह दिल्ली में आगे की रणनीति का खुलासा करने वाले हैं।

..................

कार्निवल के बहाने पापमुक्त होना चाहती हैं ममता : बाबुल

कोलकाता : मंगलवार को महानगर के रेड रोड में राज्य सरकार की ओर से चयनित पूजा समितियों का कार्निवल आयोजित किया गया। ममता बनर्जी सरकार ऐसा विगत साल से कर रही है। वहीं, इस पर तंज कसते हुए भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने कहा कि ममता कार्निवल के बहाने पाप मुक्त होना चाहती हैं क्योंकि उन्होंने मोहर्रम को लेकर विसर्जन में हस्तक्षेप करने की कोशिश की थी। बकौल बाबुल यह प्रायश्चित का तरीका है क्योंकि देवी दुर्गा को सम्मान के साथ विदाई दी जा रही है। कार्निवल अच्छी पहल है लेकिन यदि इसे छुंट्टी के दिन आयोजित किया जाता तो अधिक लोग देखने आते। उन्होंने कहा कि अधिकतर पूजा समितियों के साथ तृणमूल के नेता जुड़े हुए हैं, यदि वे पूजा को लेकर करोड़ों खर्च कर सकते हैं तो फिर उन्हें लोगों की मदद को भी आगे आना चाहिए। बाबुल ने आरोप लगाया कि भाजपा नेताओं को पूजा पंडाल उद्घाटन करने से रोक दिया गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप