कोलकाता, राज्य ब्यूरो।  कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बंगाल सरकार ने इससे प्रभावित हॉटस्पॉट की तलाश के लिए अब आशा कार्यकर्ताओं को जिम्मा दिया है। इसके लिए राज्य सरकार ने 'संधाने' नाम का एप भी लॉन्च किया है। आज से राज्य के विभिन्न इलाकों में आशा कार्यकर्ता अपने-अपने क्षेत्रों में जाकर इसका पता लगाएगी। ‌

कहीं भी अगर कोरोना के लक्षण दिखाई देते है तो वह उस बारे में जानकारी ऐप में देंगी। यह ऐप राज्य सचिवालय नवान्न के सर्वर से जोड़ा गया है। स्वास्थ्य विभाग से जुड़े अधिकारी इस ऐप की लगातार निगरानी करेंगे और कोई भी जानकारी आने पर उस अनुसार कार्रवाई की जाएगी। एक अधिकारी ने बताया कि जिस इलाके में बुखार या खांसी से पीड़ित कुछ लोगों में लक्षण देखा जाता है उस बारे में आशा कार्यकर्ता ऐप के माध्यम से तुरंत जानकारी देंगी। इसके बाद तदनुसार आगे का कदम उठाया जाएगा। इससे पहले अभी तक राज्य में 7- 8 हॉटस्पॉट्स को चिन्हित किया गया है, जो कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित है।

गुरुवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक बार फिर कहा कि कलिमपोंग सहित राज्य में ऐसे 7-8 हॉटस्पॉट अभी तक चिन्हित किए गए हैं, जहां कोरोना का संक्रमण अधिक दिखाई देता है। उन्होंने बताया कि राज्य में जो अभी कोरोना के 80 एक्टिव केस है, उसमें से 66 लोग 11 परिवार से ही हैं, जो कोरोना से संक्रमित हैं। इनमें उत्तर बंगाल के कलिमपोंग में एक ही परिवार के 11 लोग कोरोना पॉजिटिव है।

इस परिवार के एक व्यक्ति की पहले ही मौत हो चुकी है। यह परिवार चेन्नई से लौटा था। बाद में एक-एक कर परिवार के सभी सदस्यों में खोलना के संक्रमण की पुष्टि हुई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हॉटस्पॉट का पहचान कर उस इलाके में कोरोना के चक्र को तोड़ने के लिए सभी उपयुक्त कदम राज्य सरकार उठाएगी, ताकि दूसरे इलाके में इसका प्रसार ना हो सके। 

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस