कोलकाता, जागरण संवाददाता। Arrested in Fraud Case. निजी जमीन पर मोबाइल टावर लगाने की अनुमति देने पर अच्छा किराया और अन्य सुविधाओं का प्रलोभन देकर जालसाजों ने सेनाकर्मी से ही करीब ढाई लाख रूपये की धोखाधड़ी कर ली। इस मामले में पुलिस ने दो आरोपितों को गिरफ्तार किया है। कोर्ट ने आरोपितों को सात दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।

सूत्रों के अनुसार, बीते वर्ष सोशल मीडिया पर जालसाजों ने एक विज्ञापन दिया था जिसमें लिखा था मोबाइल टावर लगाने के लिए जमीन देने पर बतौर किराया मोटी रकम और अन्य सुविधाएं का लाभ मिलेगा। इसके लिए गारंटी के रूप में करीब ढाई लाख रूपये भी जमा करवाने होंगे। विज्ञापन में एक मोबाइल नंबर भी दिया गया था। सिलीगुड़ी में तैनात एक सेनाकर्मी की नजर विज्ञापन पर पड़ी तो उसने उक्त नंबर पर फोन कर संपर्क किया था। इसके बाद ऑन लाइन बैंकिंग के जरिए उसने 2.47 लाख रुपये जमा करा दिए। इसी बीच, सेनाकर्मी का तबादला कोलकाता के फोर्ट विलियम में हो गया था। लंबे समय तक टावर नहीं लगने पर सेनाकर्मी को ठगी का एहसास हुआ तो उसने सितंबर, 2019 में मैदान थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी थी। जांच में जुटी पुलिस ने विज्ञापन में दिए नंबर पर संपर्क किया तो मोबाइल बंद मिला।

इसके बाद पुलिस ने कॉल रिकार्ड निकाल कर और आइएमइआइ के आधार पर जालसाजों का नया नंबर हासिल कर लिया। इसके अलावा जिन तीन बैंक खातों में रकम जमा करवाई गई थी, उसके भी तथ्य एकत्र कर लिए थे। इसके बाद पुलिस ने सोशल मीडिया के कुछ प्रोफाइल को खंगालने के बाद जालसाजों की पहचान कर ली। सूत्रों के अनुसार, बीते दिन पुलिस ने उत्तर 24 परगना जिले के बिजपुर से तुषाण कुमार मैत्र तथा नैहट्टी थाना क्षेत्र से इंद्रजीत चौधरी नामक आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपितों को बैंकशाल अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें सात दिन के लिए पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया।

बंगाल की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस