जागरण संवाददाता, कोलकाता। विख्यात सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खान ने 21वीं सदी को मानवता के लिए 'सबसे बुरा' वक्त बताया है। उन्होंने कहा कि यह एक ऐसा दौर है, जहां लोग धर्म के नाम पर एक-दूसरे की हत्या कर रहे हैं।

पद्म विभूषण से सम्मानित अमजद अली खान ने कहा-'विश्व में शांति की जरुरत है लेकिन दुर्भाग्य से राजनीति अब धर्म पर आधारित हो गई है। नेता अपने स्वार्थ की खातिर धर्म के इर्द-गिर्द राजनीति करते हैं इसलिए यह न सिर्फ भारत में बल्कि पूरी दुनिया के लिए दुर्भाग्यपूर्ण है।' अमजद अली खान टाटा स्टील कोलकाता साहित्य सम्मेलन में बोल रहे थे।

उन्होंने आगे कहा-'21वीं सदी बहुत ही शांतिपूर्ण और सफल होनी चाहिए लेकिन यह समय पूरी दुनिया के लिए खराब हो गया है। लोग सफर करने से डरते हैं और कोई सुरक्षा नहीं है।' अपने वालिद हाफिज अली खान के इन शब्दों 'हम सभी के एक ही भगवान हैं और हम सभी एक ही नस्ल के हैं', को याद करते हुए 73 वर्षीय सरोद वादक ने कहा-'काश, हर धर्मगुरु यही संदेश देते।'

अमजद अली खान ने कहा कि हर इंसान को दुनिया में शांति एवं सौहार्द कायम रखने का प्रयास करना चाहिए। शोधवेत्ताओं के कट्टरपंथ की गिरफ्त में आने की घटनाएं सामने आई हैं जो दर्शाता है कि शिक्षा ने मानव के प्रति सहृदयता एवं दयालुता नहीं पैदा की।

Posted By: Preeti jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस