जागरण संवाददाता, कोलकाता : टाटा मोटर्स की महत्वाकाक्षी नैनो कार की बिक्री में गिरावट आई है। यही नहीं, उत्पादन भी फायदेमंद नहीं रहा है। यही वजह है कि अब टाटा मोटर्स नैनो कार को लेकर वैकल्पिक योजना बना रही है। इसके इलेक्ट्रिक संस्करण पर विचार किया जा रहा है।

कंपनी के मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) सतीश बोरवंकर ने नैनो के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर कहा कि आने वाले समय में नैनो के वैकल्पिक योजनाओं पर विचार किया जा रहा है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि इस मॉडल से भावनात्मक जुड़ाव होने के कारण इसका उत्पादन बंद करने की योजना नहीं है। शेयरधारक भी चाहते हैं कि इसका उत्पादन जारी रखा जाए।

बोरवंकर ने आगे कहा-'अभी करीब 1000 नैनो कार प्रति माह बेची जा रही हैं। कंपनी ने पश्चिम बंगाल के सिंगुर में अपना संयंत्र बंद करने के बाद नैनो का उत्पादन गुजरात के साणद स्थित संयंत्र में स्थानातरित कर दिया था। इस संयंत्र में नैनो के अलावा दो अन्य यात्री कारों टिएगो और टिगोर का उत्पादन होता है। उन्होंने कहा, टिएगो और टिगोर का उत्पादन नैनो के मुकाबले काफी अधिक है।'

यात्री वाहनों के साथ ही व्यावसायिक वाहनों की भी बिक्री गिरने को लेकर पूछे जाने पर बोरवंकर ने कहा-'उपभोक्ताओं से जुड़ने संबंधी दिक्कतें हैं, जिन्हें दूर किया जा रहा है। हम डीलरों के यहा जाकर अब उपभोक्ताओं की दिक्कतें समझा रहे हैं। जून, जुलाई और अगस्त में बिक्री फिर से बढ़ी है। व्यावसायिक वाहनों के मामले में एक अन्य दिक्कत आपूर्ति में आ रही बाधा है। माग बढ़ने के बाद अब उत्पादन बढ़ाने पर काम किया जा रहा है।

बोरवंकर ने इस मौके पर यह भी जानकारी दी कि कंपनी एक कॉम्पैक्ट स्पोर्ट्स यूटीलिटी व्हीकल एसयूवी पेश करने की तैयारी में है। इसका उत्पादन पुणे के रंजनगाव स्थित संयंत्र में हो रहा है। इसे दिवाली से पहले पेश किया जाएगा। व्यावसायिक वाहन उत्पादित कर रहे संयंत्रों की क्षमता के 75 फीसद का दोहन हो पा रहा है जबकि यात्री वाहन बना रहे संयंत्र पूरी क्षमता से उत्पादन कर रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप