कोलकाता, जेएनएन। उत्तर 24 परगना जिले के निमता में देवांजन दास हत्याकांड के मुख्य आरोपित प्रिंस सिंह को पुलिस ने बैरकपुर कोर्ट में पेश किया, जहां कोर्ट ने उसे 14 दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। बता दें कि पुलिस ने उसके खिलाफ हत्या, हत्या की साजिश रचने व सबूत छुपाने, तथा आ‌र्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक पूछताछ में अपना अपराध स्वीकार करते हुए प्रिंस बताया कि अपनी प्रेमिका से देवांजन की बढ़ती नजदिकियां उसे बरदाश्त नहीं हुई। कई बार धमकाने के बाद भी जब वह नहीं माना तो तब वह उसकी हत्या करने की ठान ली। इसके लिए वह अपने दोस्तों के साथ एक ढाबा में हत्या की योजना बनाई और उसे अंजाम दिया। उसने यह भी बताया कि तृषा को घर पर छोड़कर जब देवांजन वापस लौट रहा था तब उसने गोली चलाई, जिससे उसकी मौत हो गई।

वारदात को अंजाम देने के बाद वह विशाल के घर में दो दिनों तक छुपा रहा। इस दौरान वह पुलिस की गतिविधियों पर भी नजर रख रहा था। वहीं जब पुलिस ने इस मामले में रेड शुरू की तब वह अपने परिजन के यहां भाग गया। इसके बाद पुलिस ने आरोपित का मोबाइल फोन का लोकेशन ट्रैक कर उसे बजबज से गिरफ्तार किया।

गौरतलब है कि इससे पहले पुलिस ने देवांजन की मौत सड़क हादसा बताया था, जिससे उसके पिता सुदीप दास ने नाराजगी जाहिर की थी। इसके बाद उन्होंने पांच लोगों के खिलाफ हत्या का आरोप लगाते हुए पुलिस में एफआइआर दर्ज कराई थी।

देवांजन के पिता ने बताया कि प्रिंस की गिरफ्तारी से वह काफी संतुष्ट हैं। उनका कहना है कि जिन लोगों ने उनके बेटे की हत्या की है, उन्हें फांसी की सजा दी जानी चाहिए। जांच अधिकारियों के मुताबिक हत्या के लिए जिस आग्नेयास्त्र का उपयोग किया गया था उसे बरामद कर लिया गया है। वहीं घटना की पुनरावृत्ति कर प्रिंस के जरिए इस कांड में लिप्त अन्य आरोपियों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है। फिलहाल अन्य आरोपितों की तलाश जारी है।

निमता हत्याकांड में मुख्य आरोपित समेत दो गिरफ्तार

जानकारी हो कि निमता में हुए देवांजन दास हत्याकांड में पुलिस ने घटना के 12 दिन बाद मुख्य आरोपित प्रिंस सिंह समेत दो को गिरफ्तार किया था। शनिवार को दमदम से पहले विशाल मारू की गिरफ्तारी हुई थी । उससे पूछताछ के बाद शाम को मुख्य आरोपित प्रिंस सिंह को बजबज स्थित उसके एक रिश्तेदार के घर से गिरफ्तार किया गया था। शनिवार को विशाल को बैरकपुर कोर्ट में पेश करने पर उसे 11 दिनों की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया जबकि प्रिंस को रविवार को कोर्ट में पेश किया गया था। डीसीपी (2) आनंद राय ने बताया कि विशाल के बयान में विसंगतियां पाए जाने के बाद उसे गिरफ्तार किया गया। उससे हुई पूछताछ के आधार पर मुख्य आरोपित प्रिंस सिंह को भी शनिवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया गया किया गया था। 

Posted By: Preeti jha

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप