मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

-हादसे से पहले आरोपित ने तोड़े थे कई ट्रैफिक सिग्नल, अनियंत्रित थी कार की गति

-स्कॉटलैंड में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय से कर चुका है बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई

जागरण संवाददाता, कोलकाता : बांग्लादेशी 2 राहगीरों को जगुआर कार से कुचल कर मौत के घाट उतारने के आरोपित अर्सलान परवेज को बारिश में कार चलाने का शौक था। शुक्रवार रात भी झमाझम बारिश हो रही थी। उधर, हादसे से पहले आरोपित ने कई ट्रैफिक सिग्नल को भी तोड़ा था। सूत्रों के अनुसार शुक्रवार रात करीब 11 बजे अर्सलान परवेज बेगबागान स्थित अपने पुराने मकान से महंगी कार जगुआर को लेकर बारिश में घूमने के लिए निकला था। अनियंत्रित गति के साथ महानगर के कई स्थानों में फर्राटा भरने के बाद देर रात करीब 2 बजे लाउडन स्ट्रीट और शेक्सपियर सरणी के मोड़ पर मर्सिडीज को टक्कर मारने के बाद बांग्लादेशी नागरिकों को कुचल दिया था। घायलों को मदद करने की बजाए परवेज पैदल ही पुराने मकान में लौट गया था। साइंस सिटी स्थित उसका एक आलीशान मकान भी है। हादसे का सबब बनी जगुआर कार का पंजीकरण अप्रैल 2017 में अर्सलान इंटरप्राइज प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर किया गया था। जगुआर को अधिकतर पिता एवं गु्रप के निदेशक अख्तर परवेज चलाते थे मगर हादसे वाले दिन कार की स्टेयरिंग अर्सलान के हाथों में थी। अर्सलान ने वर्ष 2014 से 2018 तक स्कॉटलैंड में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय से बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई भी कर चुका है। उसके नाम पर ही बिरयानी कारोबार का नामकरण किया गया था। पिता अख्तर ने पार्क सर्कस मोड़ पर स्थित संस्था की सबसे पुरानी दुकान का मालिकाना हक भी अर्सलान परवेज को दे दिया था। उधर, सीसीटीवी जांच में पुलिस को पता चला कि हादसे से पहले रात करीब 12 बजे जगुआर कार मल्लिक बाजार इलाके में देखी गई थी। उस वक्त भी कार की गति तेज थी। महानगर की सड़कों पर तेज रफ्तार कार दौड़ा रहे अर्सलान परवेज ने मिडलटन स्ट्रीट, रसल स्ट्रीट और जवाहर लाल नेहरू रोड पर बने ट्रैफिक सिग्नल को भी तोड़ दिया था। इसके बाद थियेटर रोड और लाउडन स्ट्रीट के सिग्नल को तोड़कर जगुआर मर्सिडीज को ठोंकने के बाद फुटपाथ पर बने ट्रैफिक पुलिस के बूथ से जा टकराई थी। उसी वक्त वहां खड़े बांग्लादेशी नागरिकों को कुचल दिया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप