मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

- दिल्ली में भाजपा नेताओं से मिलने से भी परहेज नहीं करने की कही बात

- पहले भी कई बार भाजपा में शामिल होने की उड़ चुकी है अफवाहें

जागरण संवाददाता, कोलकाता : तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी के कभी बेहद करीब रहने वाले कोलकाता के पूर्व मेयर शोभन चटर्जी और उनकी महिला मित्र वैशाखी बनर्जी के भाजपा में शामिल होने के बाद शुक्रवार को राजारहाट-न्यूटाउन के तृणमूल विधायक व विधाननगर के पूर्व मेयर सव्यसाची दत्त भी दिल्ली रवाना हो गए। हालांकि नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय (एनएससीबीआइ) हवाई अड्डे पर विमान पकड़ने से पहले सव्यसाची ने तृणमूल से भाजपा नेता बने शोभन चटर्जी की काफी प्रशंसा की। इसके बाद ही एक बार फिर सव्यसाची दत्त के भाजपा में शामिल होने की अटकलें तेज हो गई हैं। इसका एक और ठोस कारण सव्यसाची का भाजपा नेता मुकुल राय से नजदीकियां भी बताई जा रही हैं। मालूम हो कि पार्टी सुप्रीमो और वरिष्ठ नेताओं की सख्य मनाही के बावजूद सव्यसाची दत्त भाजपा नेता मुकुल राय के मिलते रहे। उनके साथ खाना-पीना करते रहे। उनके इसी व्यवहार के चलते बीते दिनों ममता बनर्जी के निर्देश पर विधाननगर के मेयर पद से भी हटना पड़ा था। हालांकि सव्यसाची ने इस बार भी कहा कि वह व्यक्तिगत कारणों से दिल्ली जा रहे हैं। उनका भाजपा में शामिल होने की फिलहाल कोई योजना नहीं है। लगे हाथ सव्यसाची ने यह भी कहा कि अगर दिल्ली में किसी भाजपा नेता ने मुलाकात की इच्छा जताई, तो वह उसे मना भी नहीं करेंगे।

गौरतलब हो कि 14 अगस्त को कोलकाता के पूर्व मेयर शोभन चटर्जी ने अपनी महिला मित्र बैशाखी के साथ दिल्ली जाकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी। उसी दिन सव्यसाची ने शोभन की काफी प्रशंसा की थी। कहा था, भाजपा को शोभन दा के अनुभव का लाभ मिलेगा। भाजपा राजनीतिक स्तर पर और शक्तिशाली हो गई। उनके इस कथन के बाद ही फिर से सव्यसाची के भाजपा में शामिल होने की अफवाह गर्म हो गई। हालांकि सव्यसाची काफी सधे अंदाज में फूंक-फूंक उठा रहे हैं। इससे पहले लोकसभा चुनाव में भी सव्यसाची के भाजपा में शामिल होने और बारासात लोकसभा सीट से चुनाव लड़ने की अफवाह उठी थी, लेकिन बाद में सव्यसाची ने खुद उस पर विराम लगा दिया था। पर इस बार उक्त अटकलों के सही होने के कयास लगाए जा रहे हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप