- जिलों में शाखा खुलने से समुदाय के लोगों को होगी सहूलियत

- अगस्त माह के आखिर तक उठाए जाएगे क्रियात्मक कदम

जागरण संवाददाता, कोलकाता : मौजूदा समाज में किन्नर समुदाय की बढ़ती स्वीकार्यता को देखते हुए उनके मौलिक अधिकार व अन्य आवश्यकताओं के मद्देनजर राज्य की ममता सरकार ने जिलों में अब ट्रासजेंडर विकास बोर्ड कार्यालय खेलने का निर्णय लिया है। इसकी जानकारी राज्य ट्रासजेंडर विकास बोर्ड की ओर से सोमवार को दी गई व बताया गया कि प्रत्येक जिले में इसकी शाखा खोली जाएगी। इतना ही नहीं अब इस समुदाय विशेष के लोगों की समस्याओं के त्वरित समाधान हेतु कई तकनीकी फैसले भी लिए गए हैं, जो समस्याओं के निपटान में मददगार साबित होंगे। हाल ही में महानगर कोलकाता से लगे साल्टलेक इलाके में बने ट्रासजेंडर बोर्ड के नए कार्यालय का उद्घाटन हुआ है। दरअसल, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने किन्नर समुदाय को पेश आने वाली समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करते हुए इनके विकास व कल्याण हेतु बोर्ड स्थापना का प्रस्ताव रखा था, जिसके बाद उनके निर्देशों का अनुपालन करते हुए इसकी स्थापना की गई। वहीं पूरे बंगाल के लिए कोलकाता में ट्रासजेंडर बोर्ड होने के कारण समुदाय से जुड़े लोगों को अपनी समस्याओं के निवारण के लिए सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों से यहां आना पड़ता है लेकिन अब जिलों में कार्यालय खुलने से उन्हें काफी हद तक सहूलियत होगी। बताया गया कि अगस्त माह के आखिर तक इस पर क्रियात्मक कदम उठाए जाएगे।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran