जागरण संवाददाता, खड़गपुर। फणि तूफान को ले बात करने की कोशिश करने के बावजूद फोन रिसीव नहीं करने के आरोप पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अपनी सफाई पेश की। सोमवार को झाड़ग्राम के गोपीबल्लभपुर में आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं कोलकाता में थी नहीं जो आपसे फोन पर बात करने का अवसर मिले। इतना ही नहीं ममता ने भाजपा पर हमला बोलते हुए कहा, 'पार्टी जबरन सबसे जय श्री राम का जाप कराना चाहती है।'

मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि उनकी अनुपस्थिति में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य सचिव के साथ बैठक करना चाहते थे। उन्होंने सवाल उठाया कि मुख्यमंत्री की उपेक्षा कर मुख्य सचिव और प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक करने की स्पर्धा आप कैसे दिखा सकते हैं। बंगाल में यह सब नाटक न करें।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को "एक्सपाइरी प्रधानमंत्री' की उपाधि देते हुए कि एक्सपाइरी प्रधानमंत्री आप प्रधानमंत्री बनने के योग्य नहीं हैं। हमें आपकी सहानुभूति नहीं चाहिए। उन्होंने कहा कि कलाईकुंडा में मोदी का विमान उतरने के बाद बैठक का प्रस्ताव दिया गया। मानो हम उनके नौकर हैं। वे लोगों को दिखाने के लिए मीटिंग करेंगे और वहां हमें रिपोर्ट जमा करनी होगी। फिर कहेंगे बंगाल सरकार सहयोग नहीं कर रही। चुनाव के समय आपके साथ मंच साझा नहीं करुंगी। यह बात दिमाग में बैठा लें, क्योंकि आपको प्रधानमंत्री नहीं मानती। नया प्रधानमंत्री बनने पर उससे बात करूंगी।

उन्होंने सवाल उठाया कि चुनाव प्रचार को प्रधानमंत्री राज्य में आए हैं। ऐसे में वे उनके साथ बैठक क्यों करेंगी। जंगल महल की चर्चा करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि जब जंगल महल जल रहा था, तब किसी का पता नहीं था। चुनाव है तो सब आ रहे हैं। यह कन्याश्री , सड़क, पानी, बिजली की सुविधा किसकी बदौलत है। भाजपा पहले वादे के लिहाज से लोगों को 15-15 लाख रुपये दे फिर वोट मांगे। सभा में विधायक चूड़ामणि महतो तथा राज्य विधानसभा के डिप्टी स्पीकर सुकुमार हांसदा समेत बड़ी संख्या में पार्टी नेता व कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस