जागरण संवाददाता, खड़गपुर : पूर्व केंद्रीय रेल मंत्री व भारतीय जनता पार्टी नेता मुकुल राय बुधवार को अचानक झाड़ग्राम जिला अंतर्गत लालगढ़ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने माओवादी ¨हसा के दौरान गिरफ्तार कर जेल में बंद छत्रधर महतो के परिजनों से मुलाकात की। हालांकि टीएमसी नेताओं ने उनकी इस भेंट का उपहास किया।

पार्टी जिलाध्यक्ष सुखमय सत्पथी समेत अन्य कार्यकर्ताओं को साथ लेकर राय बुधवार की दोपहर अचानक लालगढ़ थानांतर्गत आमालिया पहुंचे और पुलिस संत्रास जनप्रतिरोध समिति के नेता छत्रधर महतो के परिजनों से मुलाकात की कोशिश की। बताया जाता है कि इस दौरान महतो परिवार के ज्यादातर सदस्य बाहर थे। लिहाजा उनकी मुलाकात नहीं हो सकी। केवल छत्रधर के भाई अनिल महतो से उनकी मुलाकात हुई। माओवादी ¨हसा के दौरान ही छत्रधर महतो को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। आमालिया गांव से निकल कर राय छोटोपेलिया गांव पहुंचे और सीतामणि मुर्मू से मुंलाकात की कोशिश की, लेकिन उनके भी घर पर मौजूद नहीं होने से मुलाकात नहीं हो सकी। बता दें कि 2008 में हुई माओवादी ¨हसा खास कर तत्कालीन मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य के काफिले पर हुए हमले के बाद चलाए गए पुलिस अभियान में सीतामणि मुर्मू की आंखों को खासा नुकसान पहुंचा था। जंगल महल में माओवादी ¨हसा भड़कने का एक यह भी कारण माना जाता था। दूसरी ओर कोशिश के बावजूद इच्छित लोगों से मुलाकात न हो पाने को भाजपा नेताओं ने संयोग बताया। वहीं टीएमसी ने इसका मजाक उड़ाया है। टीएमसी जिलाध्यक्ष अजीत माईती ने कहा कि राय को शायद अब भी मुगालता है कि वे टीएमसी में हैं। टीएमसी में रह कर जितनी आसानी से वे लोगों से मिल पाते थे। दूसरे दल में यह संभव नहीं है। जिन लोगों से उन्होंने मुलाकात की कोशिश की उन सभी ने खुद ही उनसे मिलने से इन्कार कर दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस