संवाद सूत्र, नागरकाटा: शराब बिक्री का महिलाओं ने खूब जोर विरोध शुरू कर दिया है। यह घटना नागरकाटा के चैंगमारी चाय बागान इलाके की है। बुधवार को आयोजित सभा के दौरान महिलाओं ने अवैध व देशी शराब बिक्री करने वालों को सात दिन का समय दिया है। अगर इसके बावजूद भी शराब बिक्री बंद नहीं हुई तो दुकानों को तोड़ देने की चेतावनी दी गई है। चैंगमारी चाय बागान की महिलाओं में साहस देखकर दूसरे महिलाओं का साहस बढ़ा है।

स्थानीय सूत्रों की माने तो दूसरे सबसे बड़े चाय बागान में वर्ष 2002 से अवैध व देशी शराब की बिक्री बंद थी। लेकिन पिछले कुछ महीनों से फिर एक बार शराब बिक्री का अवैध कारोबार शुरू हो गया है। भूटान करीब होने के चलते काफी मात्रा में नकली शराब की बिक्री होती है। फलस्वरूप घरों में अशांति का माहौल रहता हे। इससे स्थानीय महिलाओं में काफी आक्रोश देखा जा रहा है। गत छह महीनों में शराब पीने से लोगों की मौत भी हुई है।

महिलाओं ने बताया कि बागान के लोअर डिवीजन में शराब बिक्री सबसे बड़ी समस्या बनी हुई है। यहां प्रेम नगर, खेरबंदी लाइन, बलिराम लाइन, राम लाइन समेत कई श्रमिक मोहल्ले में धड़ल्ले से शराब बिक्री की जा रही है। शराब पीने के चलते ही श्रमिक काम पर भी समय पर नहीं पहुंचते हैं। आज की सभा में पुलिस, स्थानीय श्रमिक नेता भी मौजूद थे। उक्त शिकायतों को लेकर नागराकाटा थाने के ओसी सैकत भद्र ने कहा कि शराब बिक्री होने पर पुलिस को सूचना देने के लिए कहा गया है। इससे जुड़े लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran